Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

सुत्तनिपात 40

पाली भाषेत :-

१८१ किं सूध वित्तं पुरिसस्स सेट्ठं। किं सु सुचिण्णं सुखमावहाति।
किं सु हवे सादुतरं रसानं। कथंजीविं जीवितमाहु सेट्ठं।।१।।

१८२ सद्धीध वित्तं पुरिसस्स सेट्ठं। धम्मो सुचिण्णो सुखमावहाति।
सच्चं हवे सादुतरं१(१ अ.-साधुतरं.) रसानं। पञ्ञाजीविं जीवितमाहु सेट्ठं।।२।।

१८३ कथं सु तरती२ (२ म.-तरति.) ओघं कथं सु तरति अण्णवं।
कथं सु दुक्खं अच्चेति कथं सु परिसुज्झति।।३।।

मराठीत अनुवाद:-

१८१. इहलोकीं मनुष्याला श्रेष्ठ धन कोणतें? कोणचें सत्कृत्य केलें असतां सुखकारक होतें? स्वादु पदार्थांत उत्तम कोणता? कोणत्या रीतीनें वागलें असतां त्याच्या जीवनाला श्रेष्ठ मानतात? (१)

१८२. (भगवान्-) मनुष्याचें इहलोकीं श्रेष्ठ धन श्रद्धा होय. सद्धर्म संपादन केला असतां सुखकारक होतो. सत्य हा स्वादुतम पदार्थ होय. प्रज्ञापूर्वक वागणाराचें जीवन श्रेष्ठ मानलें जातें. (२)

१८३. (मनुष्य) ओघ कसा तरतो? अर्णव कसा तरतो? दु:खाच्या पार कसा जातो? परिशुद्ध कसा होतो? (३)

पाली भाषेत :-

१८४ सद्धाय तरती ओघं अप्पमादेन अण्णवं।
विरियेन दुक्खं अच्चेति पञ्ञाय परिसुज्झति।।४।।

१८५ कथं सु लभते पञ्ञं कथं सु विन्दते धनं।
कथं सु कित्तिं पप्पोति कथं मित्तानि गन्थति।
अस्मा लोका परं लोकं कथं पेच्च न सोचति।।५।।

१८६ सद्दहानो अरहत्तं धम्मं निब्बाणपत्तिया।
सुस्सूसा लभते पञ्ञं अप्पमत्तो विचक्खणो।।६।।

१८७ पतिरूपकारी धुरवा उट्ठाता विन्दते धनं।
सच्चेन कित्तिं पप्पोति ददं मित्तानि गन्थति।।७।।

१८८ यस्सेते चतुरो धम्मा सद्धस्स घरमेसिनो।
सच्चं धम्मो धिति चागो स वे पेच्च न सोचति।।८।।

मराठीत अनुवाद :-

१८४. (मनुष्य) श्रद्धेनें ओघ तरतो. सावधानपणानें अर्णव तरतो. उत्साहानें दु:खाच्या पार जातो. प्रज्ञेनें परिशुद्ध होतो. (४)

१८५. (मनुष्य) प्रज्ञा कशी मिळवतो? धन कसें मिळवितो? कीर्ति कशी प्राप्त करतो? मित्र कसे जोडतो? इहलोकांतून परलोकीं जाऊन शोक कशामुळें करीत नाहीं? (५)

१८६. अरहन्ताच्या निर्वाणप्राप्तीच्या धर्मावर श्रद्धा ठेवून सावधान व हुशार माणूस शुश्रूषेनें१ (१ ‘श्रवण करण्याची इच्छा’ ह्या संस्कृतांतील मूलार्थी हा शब्द वापरला आहे.) प्रज्ञा मिळवितो. (६)

१८७. योग्य मेहनत करणारा, धुरा वाहणारा व उत्थानशील माणूस धन मिळवितो. सत्यानें कीर्ति प्राप्त करतो. दानानें मित्र जोडतो. (७)

१८८. ज्या श्रद्धाळू गृहस्थापाशीं सत्य, धर्म, धृति आणि त्याग हे चार गुण आहेत तो परलोकीं शोक करीत नाहीं. तो इहलोकांतून परलोकीं जाऊन शोक करीत नाहीं. (८)

सुत्तनिपात

धर्मानंद कोसंबी
Chapters
प्रास्ताविक चार शब्द 1
प्रास्ताविक चार शब्द 2
भाषातरकारांची प्रस्तावना 1
भाषातरकारांची प्रस्तावना 2
भाषातरकारांची प्रस्तावना 3
ग्रंथपरिचय 1
ग्रंथपरिचय 2
ग्रंथपरिचय 3
ग्रंथपरिचय 4
ग्रंथपरिचय 5
ग्रंथपरिचय 6
ग्रंथपरिचय 7
ग्रंथपरिचय 8
ग्रंथपरिचय 9
ग्रंथपरिचय 10
ग्रंथपरिचय 11
ग्रंथपरिचय 12
सुत्तनिपात 1
सुत्तनिपात 2
सुत्तनिपात 3
सुत्तनिपात 4
सुत्तनिपात 5
सुत्तनिपात 6
सुत्तनिपात 7
सुत्तनिपात 8
सुत्तनिपात 9
सुत्तनिपात 10
सुत्तनिपात 11
सुत्तनिपात 12
सुत्तनिपात 13
सुत्तनिपात 14
सुत्तनिपात 15
सुत्तनिपात 16
सुत्तनिपात 17
सुत्तनिपात 18
सुत्तनिपात 19
सुत्तनिपात 20
सुत्तनिपात 21
सुत्तनिपात 22
सुत्तनिपात 23
सुत्तनिपात 24
सुत्तनिपात 25
सुत्तनिपात 26
सुत्तनिपात 27
सुत्तनिपात 28
सुत्तनिपात 29
सुत्तनिपात 30
सुत्तनिपात 31
सुत्तनिपात 32
सुत्तनिपात 33
सुत्तनिपात 34
सुत्तनिपात 35
सुत्तनिपात 36
सुत्तनिपात 37
सुत्तनिपात 38
सुत्तनिपात 39
सुत्तनिपात 40
सुत्तनिपात 41
सुत्तनिपात 42
सुत्तनिपात 43
सुत्तनिपात 44
सुत्तनिपात 45
सुत्तनिपात 46
सुत्तनिपात 47
सुत्तनिपात 48
सुत्तनिपात 49
सुत्तनिपात 50
सुत्तनिपात 51
सुत्तनिपात 52
सुत्तनिपात 53
सुत्तनिपात 54
सुत्तनिपात 55
सुत्तनिपात 56
सुत्तनिपात 57
सुत्तनिपात 58
सुत्तनिपात 59
सुत्तनिपात 60
सुत्तनिपात 61
सुत्तनिपात 62
सुत्तनिपात 63
सुत्तनिपात 64
सुत्तनिपात 65
सुत्तनिपात 66
सुत्तनिपात 67
सुत्तनिपात 68
सुत्तनिपात 69
सुत्तनिपात 70
सुत्तनिपात 71
सुत्तनिपात 72
सुत्तनिपात 73
सुत्तनिपात 74
सुत्तनिपात 75
सुत्तनिपात 76
सुत्तनिपात 77
सुत्तनिपात 78
सुत्तनिपात 79
सुत्तनिपात 80
सुत्तनिपात 81
सुत्तनिपात 82
सुत्तनिपात 83
सुत्तनिपात 84
सुत्तनिपात 85
सुत्तनिपात 86
सुत्तनिपात 87
सुत्तनिपात 88
सुत्तनिपात 89
सुत्तनिपात 90
सुत्तनिपात 91
सुत्तनिपात 92
सुत्तनिपात 93
सुत्तनिपात 94
सुत्तनिपात 95
सुत्तनिपात 96
सुत्तनिपात 97
सुत्तनिपात 98
सुत्तनिपात 99
सुत्तनिपात 100
सुत्तनिपात 101
सुत्तनिपात 102
सुत्तनिपात 103
सुत्तनिपात 104
सुत्तनिपात 105
सुत्तनिपात 106
सुत्तनिपात 107
सुत्तनिपात 108
सुत्तनिपात 109
सुत्तनिपात 110
सुत्तनिपात 111
सुत्तनिपात 112
सुत्तनिपात 113
सुत्तनिपात 114
सुत्तनिपात 115
सुत्तनिपात 116
सुत्तनिपात 117
सुत्तनिपात 118
सुत्तनिपात 119
सुत्तनिपात 120
सुत्तनिपात 121
सुत्तनिपात 122
सुत्तनिपात 123
सुत्तनिपात 124
सुत्तनिपात 125
सुत्तनिपात 126
सुत्तनिपात 127
सुत्तनिपात 128
सुत्तनिपात 129
सुत्तनिपात 130
सुत्तनिपात 131
सुत्तनिपात 132
सुत्तनिपात 133
सुत्तनिपात 134
सुत्तनिपात 135
सुत्तनिपात 136
सुत्तनिपात 137
सुत्तनिपात 138
सुत्तनिपात 139
सुत्तनिपात 140
सुत्तनिपात 141
सुत्तनिपात 142
सुत्तनिपात 143
सुत्तनिपात 144
सुत्तनिपात 145
सुत्तनिपात 146
सुत्तनिपात 147
सुत्तनिपात 148
सुत्तनिपात 149
सुत्तनिपात 150
सुत्तनिपात 151
सुत्तनिपात 152
सुत्तनिपात 153
सुत्तनिपात 154
सुत्तनिपात 155
सुत्तनिपात 156
सुत्तनिपात 157
सुत्तनिपात 158
सुत्तनिपात 159
सुत्तनिपात 160
सुत्तनिपात 161
सुत्तनिपात 162
सुत्तनिपात 163
सुत्तनिपात 164
सुत्तनिपात 165
सुत्तनिपात 166
सुत्तनिपात 167
सुत्तनिपात 168
सुत्तनिपात 169
सुत्तनिपात 170
सुत्तनिपात 171
सुत्तनिपात 172
सुत्तनिपात 173
सुत्तनिपात 174
सुत्तनिपात 175
सुत्तनिपात 176
सुत्तनिपात 177
सुत्तनिपात 178
सुत्तनिपात 179
सुत्तनिपात 180
सुत्तनिपात 181
सुत्तनिपात 182
सुत्तनिपात 183
सुत्तनिपात 184
सुत्तनिपात 185
सुत्तनिपात 186
सुत्तनिपात 187
सुत्तनिपात 188
सुत्तनिपात 189
सुत्तनिपात 190
सुत्तनिपात 191
सुत्तनिपात 192
सुत्तनिपात 193
सुत्तनिपात 194
सुत्तनिपात 195
सुत्तनिपात 196
सुत्तनिपात 197
सुत्तनिपात 198
सुत्तनिपात 199
सुत्तनिपात 200
सुत्तनिपात 201
सुत्तनिपात 202
सुत्तनिपात 203
सुत्तनिपात 204
सुत्तनिपात 205
सुत्तनिपात 206
सुत्तनिपात 207
सुत्तनिपात 208
सुत्तनिपात 209
सुत्तनिपात 210
सुत्तनिपात 211
सुत्तनिपात 212
सुत्तनिपात 213
सुत्तनिपात 214
सुत्तनिपात 215
सुत्तनिपात 216
सुत्तनिपात 217
सुत्तनिपात 218
सुत्तनिपात 219
सुत्तनिपात 220
सुत्तनिपात 221
सुत्तनिपात 222
सुत्तनिपात 223
सुत्तनिपात 224
सुत्तनिपात 225
सुत्तनिपात 226
सुत्तनिपात 227
सुत्तनिपात 228
सुत्तनिपात 229