Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

ईसाइयों से संपर्क

दूसरे दिन एक बजे मैं मि. बेकर के प्रार्थना समाज में गया। वहाँ मिस हेरिस, मिस गेब, मि. कोट्स आदि से परिचय हुआ। सबने घुटने के बल बैटकर प्रार्थना की। मैने भी उनका अनुसरण किया। प्रार्थना में जिसकी जो इच्छा होती, सो ईश्वर से माँगता। दिन शान्ति से बीते, ईश्वर हमारे हृदय के द्वार खोले, इत्यादि बाते तो होती ही थी। मेरे लिए भी प्रार्थना की गई, 'हे, प्रभु, हमारे बीच जो नये भाई आये हैं उन्हें तू मार्ग दिखा। जो शान्ति तूने हमें दी हैं, वह उन्हें भी दे। जिस ईसा ने हमे मुक्त किया हैं, वह उन्हें भी मुक्त करे। यह सब हम ईसा के नाम पर माँगते हैं।' इस प्रार्थना में भजन कीर्तन नहीं था। वे लोग ईश्वर से कोई भी एक चीज माँगते और बिखर जाते। यह समय सबके भोजन को होता था, इसलिए प्रार्थना के बाद सब अपने-अपने भोजन के लिए चले जाते थे। प्रार्थना मे पाँच मिनट से अधिक नहीं लगते थे।

मिस हेरिस और मिस गेब दोनो पौढ़ अवस्था की कुमारिकाये थी। मि. कोट्स क्वेकर थे। ये दोनो कुमारिकाये साथ रहती थी। उन्होने मुझे रविवार को चार बजे की चाय के लिए अपने घर आने का निमंत्रण दिया। मि. कोट्स जब मिलते तो मुझे हर रविवार को मुझे हफ्ते भर की अपनी धार्मिक डायरी सुनाती पड़ती। कौन कौन सी पुस्तकें मैने पढ़ी, मेरे मन पर उनका क्या प्रभाव पड़ा, इसकी चर्चा होती। वे दोनो बहने अपने मीठे अनुभव सुनाती औऱ अपने को प्राप्त हुई परम शान्ति की बाते करती।

मि. कोट्स एक साफ दिल वाले चुस्त नौजवान थे। उनके साथ मेरा गाढ़ संबंध हो गया था। हम बहुत बार एकसाथ घूमने भी जाया करते थे। वे मुझे दूसरे ईसाईयो के घर भी ले जाते थे।

मि. कोट्स ने मुझे पुस्तकों से लाद दिया। जैसे जैसे वे मुझे पहचानते जाते, वैसे वैसे उन्हें अच्छी लगनेवाली पुस्तके वे मुझे पढने को देते रहते। मैने भी केवल श्रद्धावश ही उन पुस्तको को पढ़ना स्वीकार किया। इन पुस्तकों की हम आपस में चर्चा भी किया करते थे।

सन् 1892 वर्ष में मैंने ऐसी पुस्तके बहुत पढ़ी। उन सबके नाम तो मुझे याद नहीं हैं, लेकिन उनमे सिटी टेम्पल वाले डॉ. पारकर की टीका, पियर्सन की 'मेनी इनफॉलिबल प्रुफ्स', बटलर की 'एनॉलोजी' इत्यादि पुस्तके थी। इनमे का कुछ भाग तो समझ में न आता, कुछ रुचता और कुछ न रुचता। मैं मि. कोट्स को ये सारी बाते सुनाता रहता। 'मेनी इनफॉलिबल प्रुफ्स' का अर्थ हैं, कई अचूक प्रमाण अर्थात लेखक की राय में बाइबल मे जिस धर्म का वर्णन हैं, उसके समर्थन के प्रमाण। मुझ पर इस पुस्तक का कोई प्रभाव नहीं पडा। पारकर की टीका नीतिवर्धक मानी जा सकती हैं, पर ईसाई धर्म की प्रचलित मान्यताओं के विषय में शंका रखने वालो को उससे कोई मदद नहीं मिल सकती थी। बटलर की 'एनॉलोजी' बहुत गम्भीर और कठिन पुस्तक प्रतीत हुई। उसे अच्छी तरह समझने के लिए पाँच-सात बार पढना चाहिये। वह नास्तिक को आस्तिक बनाने की पुस्तक जान पड़ी। उसमें ईश्वर के अस्तित्व के बारे में दी गयी दलीले मेरे किसी काम की न थी, क्योकि वह समय मेरी नास्तिकता का नहीं था। पर ईशा के अद्वितीय अवतार के बारे में और उनके मनुष्य तथा ईश्वर के बीच संधि करने वाला होने के बारे मे जो दलीलें दी गयी थी, उनकी मुझ पर कोई छाप नहीं पड़ी।

पर मि. कोट्स हारने वाले आदमी नही थे। उनके प्रेम का पार न था। उन्होने मेरे गले में बैष्णवी कंठी देखी। उन्हें यह वहम जान पड़ा और वे दुखी हुए। बोले, 'यह वहम तुम जैसो को शोभा नहीं देता। लाओ इसे तोड़ दूँ।'

'यह कंठी नही टूट सकती, माताजी की प्रसादी हैं।'

'पर क्या तुम इसमे विश्वास करते हो ?'

'मै इसका गूढार्थ नहीं जानता। इसे न पहनने से मेरा अकल्याण होगा, ऐसा मुझे प्रतीत नहीं होता। पर माता जी ने जो माला मुझे प्रेमपूर्वक पहनायी हैं, जिसे पहनाने मे उन्होंने मेरा कल्याण माना हैं, उसके त्याग मैं बिना कारण नही करूँगा। समय पाकर यह जीर्ण हो जायेगी और टूट जायगी, तो दूसरी प्राप्त करके पहनने का लोभ मुझे नही रहेगा। पर यह कठी टूट नही सकती।'

मि. कोट्स मेरी इस दलील की कद्र नही कर सके क्योकि उन्हे तो मेरे धर्म के प्रति अनास्था थी। वे मुझे अज्ञान-कूप मे से उबार लेने की आशा रखते थे। वे मुझे यह बताना चाहते थे कि दूसरे धर्मों मे भले ही कुछ सत्य हो, पर पूर्ण सत्यरुप ईसाई धर्म को स्वीकार किये बिना मोक्ष मिल ही नही सकता, ईसा की मध्यस्थता के बिना पाप धुल ही नही सकते और सारे पुण्यकर्म निरर्थक हो जाते हैं। मि. कोट्स ने जिस प्रकार मुझे पुस्तकों का परिचय कराया, उसी प्रकार जिन्हे वे धर्मप्राण ईसाई मानते थे उनसे भी मेरा परिचय कराया।

इन परिचयो मे एक परिचय 'प्लीमथ ब्रदरन' से सम्बंधित कुटुम्ब का था। प्लीमथ ब्रदरन नाम का एक ईसाई सम्प्रदाय हैं। कोट्स के कराये हुए बहुत से परिचय मुझे अच्छे लगे। वे लोग मुझे ईश्वर से डरने वाले जान पड़े। पर इस कुटुम्ब मे एक भाई ने मुझसे दलील की, 'आप हमारे धर्म की खूबी नही समझ सकते। आपकी बातो से हम देखते है कि आपको क्षण-क्षण मे अपनी भूलो का विचार करना होता हैं। उन्हे सदा सुधारना होता हैं। न सुधारने पर आपको पश्चाताप करना पड़ता हैं, प्रायश्चित करन होता हैं। इस क्रियाकांड से आपको मुक्ति कब मिल सकती हैं ? शान्ति आपको मिल ही नही सकती। आप यह तो स्वीकार करते ही है कि हम पापी हैं। अब हमारे विश्वास की परिपूर्णता देखिये। हमारा प्रयत्न व्यर्थ हैं। फिर भी मुक्ति की आवश्यकता तो है ही। पाप को बोझ कैसे उठे? हम उसे ईसा पर डाल दे। वह ईश्वर का एकमात्र पुत्र हैं। उसका वरदान है कि जो ईश्वर को मानते हो उनके पाप वह धो देता हैं। ईश्वर की यह अगाध उदारता हैं। ईसा की इस मुक्ति योजना को हमने स्वीकार किया हैं, इसलिए हमारे पाप हमसे चिपटते नही। पाप तो मनुष्य से होते ही हैं। इस दुनिया मे निष्पाप कैसे रहा जा सकता हैं ? इसी से ईसा ने सारे संसारो का प्रायश्चित एक ही बार में कर डाला। जो उनके महा बलिदान का स्वीकार करना चाहते हैं, वे वैसा करके शान्ति प्राप्त कर सकते हैं। कहाँ आपकी अशान्ति और कहाँ हमारी शान्ति ?'

यह दलील मेरे गले बिल्कुल न उतरी। मैने नम्रतापूर्वक उत्तर दिया, 'यदि सर्वमान्य ईसाई धर्म यही हैं, तो वह मेरे काम का नहीं हैं। मै तो पाप-वृति से, पापकर्म से मुक्ति चाहता हूँ। जब तर वह मुक्ति नही मिलती, तब तक अपनी यह अशान्ति मुझे प्रिय रहेगी।'

प्लीमथ ब्रदर ने उत्तर दिया, 'मै आपको विश्वास दिलाता हूँ कि आपका प्रयत्न व्यर्थ हैं। मेरी बात पर आप फिर सोचियेगा।'

औऱ इन भाई ने जैसा कहा वैसा अपने व्यवहार द्वारा करके भी दिखा दिया, जान बूझकर अनीति कर दिखायी।

पर सब ईसाईयो की ऐसी मान्यता नहीं होती, यह तो मैं इन परिचयो से पहले ही जान चुका था। मि. कोट्स स्वयं ही पाप से डरकर चलनेवाले थे। उनका हृदय निर्मल था। वे हृदय शुद्धि की शक्यका मे विशवास रखते थे। उक्त बहने भी वैसी ही थी। मेरे हाथ पड़ने वाली पुस्तको मे से कई भक्तिपूर्ण थी। अतएव इस परिचय से मि. कोट्स को जो धबराहट हुई उसे मैने शांत किया औऱ उन्हे विश्वास दिलाया कि एक प्लीमथ ब्रदर की अनुचित धारणा के कारण मै ईसाई धर्म के बारे मे गलत राय नहीं बना सकता। मेरी कठिनाईयाँ तो बाइबल के बारे मे और उसके गूढ अर्थ के बारे में थी।

सत्य के प्रयोग

महात्मा गांधी
Chapters
बाल-विवाह
बचपन
जन्म
प्रस्तावना
पतित्व
हाईस्कूल में
दुखद प्रसंग-1
दुखद प्रसंग-2
चोरी और प्रायश्चित
पिता की मृत्यु और मेरी दोहरी शरम
धर्म की झांकी
विलायत की तैयारी
जाति से बाहर
आखिर विलायत पहुँचा
मेरी पसंद
'सभ्य' पोशाक में
फेरफार
खुराक के प्रयोग
लज्जाशीलता मेरी ढाल
असत्यरुपी विष
धर्मों का परिचय
निर्बल के बल राम
नारायण हेमचंद्र
महाप्रदर्शनी
बैरिस्टर तो बने लेकिन आगे क्या?
मेरी परेशानी
रायचंदभाई
संसार-प्रवेश
पहला मुकदमा
पहला आघात
दक्षिण अफ्रीका की तैयारी
नेटाल पहुँचा
अनुभवों की बानगी
प्रिटोरिया जाते हुए
अधिक परेशानी
प्रिटोरिया में पहला दिन
ईसाइयों से संपर्क
हिन्दुस्तानियों से परिचय
कुलीनपन का अनुभव
मुकदमे की तैयारी
धार्मिक मन्थन
को जाने कल की
नेटाल में बस गया
रंग-भेद
नेटाल इंडियन कांग्रेस
बालासुंदरम्
तीन पाउंड का कर
धर्म-निरीक्षण
घर की व्यवस्था
देश की ओर
हिन्दुस्तान में
राजनिष्ठा और शुश्रूषा
बम्बई में सभा
पूना में
जल्दी लौटिए
तूफ़ान की आगाही
तूफ़ान
कसौटी
शान्ति
बच्चों की सेवा
सेवावृत्ति
ब्रह्मचर्य-1
ब्रह्मचर्य-2
सादगी
बोअर-युद्ध
सफाई आन्दोलन और अकाल-कोष
देश-गमन
देश में
क्लर्क और बैरा
कांग्रेस में
लार्ड कर्जन का दरबार
गोखले के साथ एक महीना-1
गोखले के साथ एक महीना-2
गोखले के साथ एक महीना-3
काशी में
बम्बई में स्थिर हुआ?
धर्म-संकट
फिर दक्षिण अफ्रीका में
किया-कराया चौपट?
एशियाई विभाग की नवाबशाही
कड़वा घूंट पिया
बढ़ती हुई त्यागवृति
निरीक्षण का परिणाम
निरामिषाहार के लिए बलिदान
मिट्टी और पानी के प्रयोग
एक सावधानी
बलवान से भिड़ंत
एक पुण्यस्मरण और प्रायश्चित
अंग्रेजों का गाढ़ परिचय
अंग्रेजों से परिचय
इंडियन ओपीनियन
कुली-लोकेशन अर्थात् भंगी-बस्ती?
महामारी-1
महामारी-2
लोकेशन की होली
एक पुस्तक का चमत्कारी प्रभाव
फीनिक्स की स्थापना
पहली रात
पोलाक कूद पड़े
जाको राखे साइयां
घर में परिवर्तन और बालशिक्षा
जुलू-विद्रोह
हृदय-मंथन
सत्याग्रह की उत्पत्ति
आहार के अधिक प्रयोग
पत्नी की दृढ़ता
घर में सत्याग्रह
संयम की ओर
उपवास
शिक्षक के रुप में
अक्षर-ज्ञान
आत्मिक शिक्षा
भले-बुरे का मिश्रण
प्रायश्चित-रुप उपवास
गोखले से मिलन
लड़ाई में हिस्सा
धर्म की समस्या
छोटा-सा सत्याग्रह
गोखले की उदारता
दर्द के लिए क्या किया ?
रवानगी
वकालत के कुछ स्मरण
चालाकी?
मुवक्किल साथी बन गये
मुवक्किल जेल से कैसे बचा ?
पहला अनुभव
गोखले के साथ पूना में
क्या वह धमकी थी?
शान्तिनिकेतन
तीसरे दर्जे की विडम्बना
मेरा प्रयत्न
कुंभमेला
लक्षमण झूला
आश्रम की स्थापना
कसौटी पर चढ़े
गिरमिट की प्रथा
नील का दाग
बिहारी की सरलता
अंहिसा देवी का साक्षात्कार ?
मुकदमा वापस लिया गया
कार्य-पद्धति
साथी
ग्राम-प्रवेश
उजला पहलू
मजदूरों के सम्पर्क में
आश्रम की झांकी
उपवास (भाग-५ का अध्याय)
खेड़ा-सत्याग्रह
'प्याज़चोर'
खेड़ा की लड़ाई का अंत
एकता की रट
रंगरूटों की भरती
मृत्यु-शय्या पर
रौलट एक्ट और मेरा धर्म-संकट
वह अद्भूत दृश्य!
वह सप्ताह!-1
वह सप्ताह!-2
'पहाड़-जैसी भूल'
'नवजीवन' और 'यंग इंडिया'
पंजाब में
खिलाफ़त के बदले गोरक्षा?
अमृतसर की कांग्रेस
कांग्रेस में प्रवेश
खादी का जन्म
चरखा मिला!
एक संवाद
असहयोग का प्रवाह
नागपुर में पूर्णाहुति