Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

शिशु के जीवन की क्रियाएं

जन्म से 1 महीने तक के बच्चे की क्रियाएं-

        एक महीने तक की उम्र के बच्चे विभिन्न क्रियाकलाप करते हैं जैसे- हाथ-पैरों को चलाना, सिर को बिना किसी सहारे के उठा न पाना, दूसरों की अंगुलियों को पकड़ने की कोशिश करना, 30 सेमी की दूरी तक किसी चलती हुई वस्तु को देखना, अपने मुंह को दूध की निप्पल की तरफ करना, अचानक किसी तेज आवाज को सुनकर रोना तथा दूध पिलाते समय कुछ हंसना आदि।

3 महीने तक की उम्र के बच्चे की क्रियाएं-

        3 महीने तक की उम्र का बच्चा कपड़ों तथा खिलौनों आदि को पकड़कर अपने मुंह की ओर खींचता है, पेट के बल लेटकर सिर को ऊपर उठाता है, अपने पास की सभी वस्तुओं को देखकर पकड़ने की कोशिश करता है, किसी जाती हुई चीज को देखने के लिए सिर को हिलाता है, मुंह से किलकारियां (आवाज) निकालता है, बात करने तथा किसी के पास आने के संकेत पर देखता है तथा नहलाने पर प्रसन्न होता है।  

6 महीने तक की उम्र के बच्चे की क्रियाएं-

        इस समय तक बच्चा शारीरिक रूप से कुछ सक्षम हो जाता है। वह तकिये की आड़ से बैठता है और लेटने पर अपने सिर से तकिये को उठाता है। बच्चा अपने आप ही बिस्तर में चारों ओर को घूम जाता है, बोतल को हाथ में लेकर दूध पीने की कोशिश करता है, कोई दूसरी वस्तु देने पर पहली वस्तु को छोड़कर दूसरी वस्तु को लेने लगता है, दोनों हाथों से ताली बजाता है, अपने हाथों से खिलौने को पकड़कर कुछ बोलने की कोशिश करता है, अपने दूध पीने की बोतल को पहचान कर जोर से हंसता है, भूख लगने या किसी कारण नाराज होने पर रोता है तथा अपने हाथ-पैर की अंगुलियों को पकड़कर खेलना और चूसना आदि क्रियाएं करता है।

9 महीने तक की उम्र के बच्चे की क्रियाएं-

        9 महीने की उम्र का बच्चा बिना किसी सहारे के बैठने और और घुटनों के बल चलने लगता है। वह किसी के सहारे खड़े होने की कोशिश करता है, बिस्कुट को हाथ में लेकर खाने की कोशिश करता है, कपड़े पहनाते समय अपने हाथों को ऊपर की ओर करता है, मां शब्द अपने मुंह से निकालने की कोशिश करता है, पहचान वाले लोगों के पास ही जाता है तथा दूसरे लोगों के गोद में लेने पर रोता है, वस्तुओं को अंगुली के संकेत से मांगता है तथा किसी भी वस्तु को पकड़कर मुंह में डालने की कोशिश करता है।

12 से 15 महीने तक की उम्र के बच्चे की क्रियाएं-

        12 से 15 महीने की आयु के बीच का बच्चा बिना सहारे के खडे़ होकर चलता है, घुटनों के बल चलता है, खिलौनों को हाथ में लेकर खेलता है, एक खिलौने को दूसरे खिलौने के ऊपर रखता है, छोटी वस्तुओं को अंगूठे और अंगुलियों के बीच में दबाकर पकड़ता है, थोड़ी सहायता करने पर पानी पीता है, फोटो को बडे़ ध्यान से देखता है, दूसरे को देखकर बालपेन की सहायता से लिखने की कोशिश करता है, अक्षर को समझने की कोशिश करता है, बोलने की कोशिश करता है, प्रतिदिन अपने सामने पड़े वस्तुओं की पहचान करता है, दांत को ब्रश से साफ करने की कोशिश करता है, हाथ हिलाकर टाटा करता है,  ताली बजाता है, किसी भी वस्तु को हाथ में उठाकर देखता है, केवल खाने वाली चीजों को ही मुंह के पास ले जाता है तथा पहचान वाले लोगों के पास ही जाता है।  

18 महीने के बच्चे का क्रिया-कलाप-

        18 महीने का होने पर बच्चा सीढ़ी पर चढ़ने की कोशिश करता है, चलना, खेलना, चम्मच हाथ में लेकर उसे खाने की कोशिश करता है, गेंद को फेंकता है, घर के बडे़ सदस्यों के कार्यों को देखकर उनके समान कार्य करने की कोशिश करता है, मां को देखकर झाडू लगाने की कोशिश करता है, गाना गुनगुनाता है, किताब के अक्षरों को समझने और बोलने की कोशिश करता है, सामान्य कामों को करता है तथा अपने घर के सदस्यों से मिलता है।

2 साल तक की उम्र के बच्चे की क्रियाएं-

        2 साल की उम्र का बच्चा उल्टा चलता है, साइकिल को पकड़कर चलता है,  खिलौने से खेलता है, साधारण शब्दों को बनाकर बोलता है, अपना नाम बोलने की कोशिश करता है, गाने को सुनकर गाना गाता है, किसी बात पर नाराज होकर चिल्लाता है, अपनी चीजों को दूसरों को देता नहीं है।

3 साल की उम्र का बच्चा-

        3 वर्ष का बच्चा पैडल मारकर छोटी साइकिल चलाता है, खिलौनों के साथ खेलता है, पैंसिल का उपयोग करता है, कैंची से कपड़ों और कागज को काटने की कोशिश करता है, रंगों को पहचानने और लिखने का कार्य करता है, दूसरों को अपना नाम बताता है, फोटो दिखाने पर बोलता है, गाने व कविता पढ़कर या सुनकर सुनाने की कोशिश करता है, अपने कपड़े पहनने की कोशिश करता है, दूसरों के साथ बाहर जाकर खेलता है, घर के नियमानुसार घर के छोटे-छोटे कार्यों को करता है।

गर्भावस्था गाईड

Vātsyāyana
Chapters
गर्भावस्था की योजना
मनचाही संतान
भ्रूण और बच्चे का विकास
गर्भावस्था के लक्षण
गर्भधारण के बाद सावधानियां
गर्भावस्था में कामवासना
गर्भावस्था के दौरान होने वाले अन्य बदलाव
गर्भावस्था में स्त्री का वजन
गर्भावस्था की प्रारंभिक समस्याएं
गर्भावस्था के दौरान होने वाली सामान्य तकलीफें और समाधान
कुछ महत्वपूर्ण जांचे
गर्भावस्था में भोजन
गर्भावस्था में संतुलित भोजन
गर्भावस्था में व्यायाम
बच्चे का बढ़ना
गर्भावस्था के अन्तिम भाग की समस्याएं
प्रसव के लिए स्त्री को प्रेरित करना
प्रसव प्रक्रिया में सावधानियां
अचानक प्रसव होने की दशा में क्या करें
समय से पहले बच्चे का जन्म
प्रसव
जन्म
नवजात शिशु
प्रसव के बाद स्त्रियों के शरीर में हमेशा के लिए बदलाव
बच्चे के जन्म के बाद स्त्री के शरीर की समस्याएं
स्त्रियों के शारीरिक अंगों की मालिश
प्रसव के बाद व्यायाम
नवजात शिशु का भोजन
स्तनपान
बच्चे को बोतल से दूध पिलाना
शिशु के जीवन की क्रियाएं
स्त्री और पुरुषों के लिए गर्भ से संबंधित औषधि
परिवार नियोजन