Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

जयदेवककृत अष्टपदि

सखी हे केऽसि मदनमुदारम्
रमय मया सः मदन मनोरध भावितया स विकारम्

निभृत निकुञ्ज धृहंगतया निशि रहसि निलीय वसन्तम्
चकित विलोकित सकलदिश रति रभस भरेण हसन्तम्

प्रधम समागम लज्जितया पटुचाटुशतैरनुकूलम्
मृदुमधुरस्मित भाषितया शिधिलीकृत जघन दुकूलम्

किसलय शयन निवेशितया चिरमुरसि ममैव शयानम्
कृत परिरम्भण चुंबनया हरिरभ्यकृताधर पानम्

कोकिल कलरव कूजितय जित मनसिज तंत्र विचारम्
श्लध कुसुमाकुल कुन्तलया नघलिखित स्थन घन भारम्

श्री जयदेव भणितमिदमतिशय मधुरिपुनिधुवन शीलम्
सुखमुत्कंठित गोपवधू कठितं वितनोतु सलीलम्

विहरति हरिरिह सरस वसंते
नृत्यति युवतिजनेन समं सखि विरहिजनस्य दुरंते

ललित लवन्ग लता परिशीलन कोमल मलय समीरे
मधुकर निकर करंबित कोकिल कूजित कुञ्ज कुटीरे

उन्मद मदन मनोरध पथिक वधूजन जनित विलापे
अलिकुल संकुल कुसुम समूह निराकुल वकुल कलापे

मृगमद सोउरभ रभस वशं वद नर्दल माल तमाले
युवजन हृदय विदारण मनसिज नखरुचि किं शुक जाले

मदन महीपति कनकदंडरुचि केसरकुसुम विकासे
मिलित शिलीमुख पाटलपटल कृत स्मरतूण विलासे

विगलित लज्जित जगदवलोकन तरुण करुण कृत हासे
विरहिनि कृन्तन कृंत मुखाकृति केतक दुंतु विस्टशे

माधविका परिमल ललिते नव मालति जाति सुगन्धौ
मुनिमनसामपि मोहनकारिणि तरुण कारण बन्धम्

स्फ्रुरदति मुत्त लत परिरम्भण मुकुलित पुलकित चूते
बृंदावन विपिने परिसर परिगत यमुना जलकूते

श्री जयदेव भणितमिदमुदयति हरिचरन स्मृति सारम्
सरस वसन्त समय वन वर्णनं अनुगत मदन विकारम्

हतादरतया सागता कुपितेव हरि हरी हरी

मामियं चलिता विलोक्य वृतं वधू निजयेना
सापराधतया मयापि न वारिताति भयेना

किं करिष्यति किं वदिष्यति साचिरं विरहेण
किं धनेन जनेन किं मम जीवितेन गृहेणा

चिन्तयामि तदाननं कुटिल भृकोप भरेणा
षोलपद्ममिवो परिभ्रमताकुलं भ्रमरेणा

तामहं हृदि संगतामनिशं भृशं रमयामि
किं वनेनुसदामितामिह किं वृध विलपामि

क्षम्यतां अपरं कदापि तवेधृशं न करोमि
देहि सुन्दरि दर्शनं मम मन्मधेन दुनोमि

वर्णितं जयदेव केन हरेरिदं प्रवणेन
बिन्दुबिल्व समुद्र सम्भव रोहिणि रमणेन

याहि माधव याहि केशव मावद कैतव वादम्
तामनुसर सरसीरुह लोचन या तव हरति विषादम्

रजनि जनित गुरु जागर राग कषायितमलसनिमेषम्
वहति नयनं अनुरागमिव स्फुट मुदित लसाभि निवेषम्

कज्जन मलिन विलोचन चुंबन विरचित नीलिम रूपम्
दशन वसनमरुणं तव कृश्न तनोति तनोरनुरूपम्

दशन पदं भवदधरगतं मम जनयति चेतसि खेदम्
कथयति कथ मधुनापि मय सह् तववपुरेतदभेदम्

भ्रमति भवानबलाकबला यवनेषु किमत्र विचित्रम्
प्रधयति पूत निकैव वधू वध निर्दय बाल चरित्रम्

श्री जयदेव भणितवतिरञ्चित खन्दित युवति विलापम्
शृणुत सुधा मधुरं विबुधा विबुधालयतोपि दुरापम्

माधवे मा कुरु मानिनि मानमये

हरिरभिसरति वहति मधु पवने
किमपरमधिक सुखं सखि भवने

ताल फलादपि गुरुमपि सरसम्
किमुविफलीकुरुषे कुच कलशम्

किमिति विषीदसि रोदिषि विकला
विहसति युवति सभातव सकला

श्री जयदेव भणितमति ललितम्
सुखतुयतु रसिक जनं हरिचरितम्

यामिहे कमिह शरणं सखीजन वचन वञ्चिता

कधित समयेपि हरि रहहनय यौवनम्
मम विफल मिदममल रूपमपि यौवनम्

हरिचरन शरन जयदेव कवि भारती
वसतु हृदि युवतिरिव कोमल कलावती

 ॥इति जयदेवकऋत अष्टपदि॥

कृष्ण स्तोत्रे

स्तोत्रे
Chapters
गोपालस्तोत्रम्
गोपालहृदयस्तोत्रम्
गोविन्द दामोदर स्तोत्र
गोविन्दस्तोत्रम्
शालिग्रामस्तोत्र
नारायणाय अष्टाक्षरमाहात्म्यं
उक्ति प्रत्युक्ति स्तोत्रम्
श्री कृष्ण सुप्रभातम्
कर्पूर आरती मन्त्रः
श्रीकृष्णस्य सप्तदशाक्षरो मन्त्रः
ज्वर रचित कृष्णस्तोत्र
धर्मकृतं श्रीकृष्णस्तोत्र
नारायणकृतं श्रीकृष्णस्तोत्र
ब्रह्मकृतं श्रीकृष्णस्तोत्र
शम्भुकृतं श्रीकृष्णस्तोत्र
सरस्वतीकृतं श्रीकृष्णस्तोत्र
मोहिनी रचित स्तोत्र
श्रीकृष्णस्य द्वाविंशत्यक्षरो मन्त्रोः
श्री कृष्णजयन्ती निर्णयः
कृष्णद्वादशनामस्तोत्रम्
गर्भस्तुतिः
गोपालस्तुतिः
गोपालस्तोत्र
गोपालविंशतिस्तोत्रम्
गोपीगीतम्
गोविन्द स्तोत्रम्
गोविन्दराजप्रपत्तिः
नख स्तुति
श्रीमधुसूदनस्तोत्रम्
जयदेवककृत अष्टपदि
श्रीकॄष्ण स्तोत्रे
त्रैलोक्यमंगलकवचम्
श्रीबालरक्षा
श्रीकृष्णस्तवराजः
भगवन्मानसपूजा
देवकृतगर्भस्तुतिः
वसुदेवकृतश्रीकृष्णस्तोत्रम्
श्रीवेंकटेश्वरमंगलस्तोत्रम्
बालकृतकृष्णस्तोत्रम्
गोपालस्तोत्रम्
जगन्नाथाष्टकम्
मोहिनीकृतश्रीकृष्णस्तोत्रम्
ब्रह्मदेवकृतकृष्णस्तोत्रम्
श्रीकृष्णस्तोत्रम्
श्रीकृष्णाष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम्
इन्द्रकृतकृष्णस्तोत्रम्
विप्रपत्‍नीकृतकृष्णस्तोत्रम्
गोपालविंशतिस्तोत्रम्
श्रीगोविंदाष्टकम्
गोपालाष्टकम्
श्रीकृष्णाष्टकम्
सत्यव्रतोक्तदामोदरस्तोत्रम्
ज्वरकृतकृष्णस्तोत्रम्
श्री जगन्नाथ स्तोत्र
श्रीगोविन्ददामोदरस्तोत्र
सन्तानगोपाल स्तोत्र
द्वादश स्तोत्राणि
गोविन्दराजप्रपत्तिः