Android app on Google Play

 

हनुमान का जन्म

 

जब अग्नि भगवान ने अयोध्या के राजा दशरथ को अपनी पत्नियों में बांटने के लिए खीर दी ताकि उनके घर  में अलोकिक बच्चे जन्म ले सकें तो उस खीर का एक हिस्सा एक बाज़ ने ले  कर जहाँ अंजना तपस्या कर रही थीं वहां पहुँचाया और पवन देव ने खीर की एक बूँद को अंजना के फैले हाथों में डाल दिया | जब उन्होनें खीर का सेवन किया तो उनके गर्भ से हनुमान का जन्म हुआ | इस तरह भगवान् शिव ने बन्दर का रूप लिया और अंजना के गर्भ से हनुमान के रूप में जन्म लिया |