Android app on Google Play

 

छठा अध्याय

 

छठा अध्याय

भूमिकी सतह

( १ ) नारदपुराण ( पूर्व० ५६।५४२ ) - में आया है कि पूर्व, उत्तर और ईशान दिशामें नीची भूमि सब मनुष्येंकि लिये अत्यन्त वृद्धिकारक होती है । अन्य दिशाओंमें नीची भूमि सबके लिये हानिकारक होती है ।

सुग्रीवके राज्याभिषेकके बाद भगवान् श्रीरामने प्रस्त्रवणगिरिके शिखरपर अपने रहनेके लिये एक गुफा चुनी । उस गुफाके विषयमें वे लक्ष्मणसे कहते हैं -

प्रागुदक्प्रवणे देशे गुहा साधु भविष्यति ।

पश्चाच्चैवोन्नता सौम्य निवातेयं भविषति ॥

( वाल्मीकि०, किष्किंधा० २६।१२ )

' सौम्य ! यहाँका स्थान ईशान्यकोणकी ओरसे नीचा है; अतः यह गुफा हमारे निवासके लिये बहुत अच्छी रहेगी । नैऋत्य ओरसे ऊँची यह गुफा हवा और वर्षासे बचानेके लिये अच्छी होगी ।'

( २ ) पूर्वमें ऊँची भूमि पुत्र और धनका नाश करनेवाली है ।

आग्नेय

में ऊँची भुमि धन देनेवाली है ।

दक्षिण

में ऊँची भूमि सब कामनाओंको पूर्ण करनेवाली तथा नीरोग करनेवाली है ।

नैऋत्यमे

ऊँची भूमि धनदायक है ।

पश्चिम

में ऊँची भुमि पुत्रप्रद तथा धन-धान्यकी वृद्धि करनेवाली है ।

वायव्य

में ऊँची भूमि धनदायक है ।

उत्तर

में ऊँची भूमि पुत्र और धनका नाश करनेवाली है ।

ईशान

में ऊँची भूमि महाक्लेशकारक है ।

( ३ ) पूर्वमें नीची भूमि पुत्रदायक तथा धनकी वृद्धि करनेवाली है ।

आग्नेय

में नीची भूमि धनका नाश करनेवाली, मृत्यु तथा शोक देनेवाली और अग्निभय करनेवाली है ।

दक्षिण

में नीची भूमि मृत्युदायक, रोगदायक, पुत्र - पौत्रविनाशक, क्षयकारक और अनेक दोष करनेवाली है ।

नैऋत्यमे

नीची भूमि धनकी हानि करनेवालीम महान् भयदायक, रोगदायक और चोरभय करनेवाली है ।

पश्चिम

में नीची भूमि धननाशक, धान्यनाशक, कीर्तिनाशक, शोकदायक, पुत्रक्षयकारक तथा कलहकारक है ।

वायव्य

में नीची भूमि परदेशवास करानेवाली, उद्वेगकारक, मृत्युदायक, कलहकारक, रोगदायक तथा धान्यनाशक है ।

उत्तर

में नीची भूमि धन - धान्यप्रद और वंशवृद्धि करनेवाली अर्थात् पुत्रदायक है ।

ईशान्य

में नीची भूमि विद्या देनेवाली, धनदायक, रत्नसंचय करनेवाली और सुखदायक है ।

मध्य

में नीची भूमि रोगप्रद तथा सर्वनाश करनेवाली है ।

( ४ ) पूर्व व आग्नेयके मध्य ऊँची और पश्चिम व वायव्यके मध्य नीची भूमि ' पितामह वास्तु ' कहलाती है । यह सुख देनेवाली है ।

दक्षिण व आग्नेयके मध्य ऊँची और उत्तर व वायव्यके मध्य नीची भूमि ' सुपथ वास्तु ' कहलाती है । यह सब कार्योंमें शुभ है ।

उत्तर व ईशानके मध्य नीची और नैऋत्यऋत्य व दक्षिणके मध्य ऊँची भूमि ' दीर्घायु वास्तु ' कहलाती है । यह कुलकी वृद्धि करनेवाली है ।

पूर्व व ईशानमें नीची और पश्चिम व नैऋत्यऋत्य ऊँची भूमि ' पुण्यक वास्तु ' कहलाती है । यह द्विजोंके लिये शुभ है ।

पूर्व व आग्नेयके मध्य नीची और वायव्य व पश्चिमके मध्य ऊँची भूमि ' अपथ वास्तु ' कहलाती है । यह वैर तथा कलह करानेवाली है ।

दक्षिण व आग्नेयके मध्य नीची और उत्तर व वायव्यके मध्य ऊँची भूमि ' रोगकर वास्तु ' कहलाती है । यह रोग पैदा करनेवाली है ।

दक्षिण व नैऋत्य मध्य नीची और उत्तर व ईशानके मध्य ऊँची भूमि " अर्गल वास्तु ' कहलाती है । यह पापोंका नाश करनेवाली है ।

पूर्व व ईशानके मध्य ऊँची और पश्चिम व नैऋत्य मध्य नीची भूमि ' श्मशान वास्तु ' कहलाती है । यह कुलका नाश करनेवाली है ।

आग्नेयमें नीची और नैऋत्य ईशान तथा वायव्यमें ऊँची भूमि ' शोक वास्तु ' कहलाती है । यह मृत्युकारक है ।

ईशान, आग्नेय व पश्चिममें ऊँची और नैऋत्य नीची भूमि ' श्वमुख वास्तु ' कहलाती है । यह दरिद्र करनेवाली है ।

नैऋत्य आग्नेय व ईशानमें ऊँची तथा पूर्व व वायव्यमें नीची भूमि ' ब्रह्मघ्न वास्तु ' कहलाती है । यह निवास करनेयोग्य नहीं है ।

आग्नेयमें ऊँची और नैऋत्य ईशान तथा वायव्यमें नीची भूमि ' स्थावर वास्तु ' कहलाती है । यह शुभ है ।

नैऋत्य ऊँची और आग्नेय, वायव्य व ईशानमें नीची भूमि ' स्थण्डिल वास्तु ' कहलाती है । यह शुभ है ।

ईशानमें ऊँची और वायव्य, आग्नेय व नैऋत्य नीची भूमि ' शाण्डुल वास्तु ' कहलाती है । यह अशुभ है ।

( ५ ) दक्षिण, पश्चिम, नैऋत्य और वायव्यकी ओर ऊँची भूमि ' गजपृष्ठ भूमि ' कहलाती है । यह धन, आयु और वंशकी वृद्धि करनेवाली है ।

मध्यमें ऊँची तथा चारों ओर नीची भूमि ' कूर्मपृष्ठ भूमि ' कहलाती है । यह उत्साह, धन - धान्य तथा सुख देनेवाली है ।

पूर्व, आग्नेय तथा ईशानमें ऊँची और पश्चिममें नीची भूमि ' दैत्यपृष्ठ भूमि ' कहलाती है, यह धन, पुत्र, पशु आदिकी हानि करनेवाली तथा प्रेत - उपद्रव करनेवाली है ।

पूर्व - पश्चिमकी ओर लम्बी तथा उत्तर - दक्षिणमें ऊँची भूमि ' नागपृष्ठ भूमि ' कहलाती है । यह उच्चाटन, मृत्युभय, स्त्री - पुत्रादिकी हानि, शत्रुव्रुद्धि, मानहानि तथा धनहानि करनेवाली है ।