Android app on Google Play

 

चल तू अकेला! - रबीन्द्रनाथ टैगोर

तेरा आह्वान सुन कोई ना आए, तो तू चल अकेला,
चल अकेला, चल अकेला, चल तू अकेला!
तेरा आह्वान सुन कोई ना आए, तो चल तू अकेला,
जब सबके मुंह पे पाश..
ओरे ओरे ओ अभागी! सबके मुंह पे पाश,
हर कोई मुंह मोड़के बैठे, हर कोई डर जाय!
तब भी तू दिल खोलके, अरे! जोश में आकर,
मनका गाना गूंज तू अकेला!
जब हर कोई वापस जाय..
ओरे ओरे ओ अभागी! हर कोई बापस जाय..
कानन-कूचकी बेला पर सब कोने में छिप जाय...

 

कथासरित्सागर

संकलित
Chapters
वररुचि की कथा
गुणाढ्य की कथा
राजा विक्रम और दो ब्राह्मणों की कथा
शूरसेन और सुषेणा की कथा
कैवर्तककुमार की कथा
काबुलीवाला
अनमोल वचन - रबीन्द्रनाथ टैगोर
दिन अँधेरा-मेघ झरते - रबीन्द्रनाथ टैगोर
चल तू अकेला! - रबीन्द्रनाथ टैगोर
विपदाओं से रक्षा करो, यह न मेरी प्रार्थना - रबीन्द्रनाथ टैगोर
ओ मेरे देश की मिट्टी-रबीन्द्रनाथ टैगोर
राजा का महल-रबीन्द्रनाथ टैगोर
पूस की रात - मुंशी प्रेमचंद
मिट्ठू - मुंशी प्रेमचंद
दो बैलों की कथा - मुंशी प्रेमचंद
वैराग्य - मुंशी प्रेमचंद
यह भी नशा, वह भी नशा - मुंशी प्रेमचंद
राष्ट्र का सेवक - मुंशी प्रेमचंद
परीक्षा - मुंशी प्रेमचंद
कितनी जमीन? - लियो टोल्स्टोय