शनि देव 2 (Hindi)


संकलित
शनि ग्रह के प्रति अनेक आखयान पुराणों में प्राप्त होते हैं।शनिदेव को सूर्य पुत्र एवं कर्मफल दाता माना जाता है। लेकिन साथ ही पितृ शत्रु भी.शनि ग्रह के सम्बन्ध मे अनेक भ्रान्तियां और इस लिये उसे मारक, अशुभ और दुख कारक माना जाता है। पाश्चात्य ज्योतिषी भी उसे दुख देने वाला मानते हैं। लेकिन शनि उतना अशुभ और मारक नही है, जितना उसे माना जाता है। इसलिये वह शत्रु नही मित्र है।मोक्ष को देने वाला एक मात्र शनि ग्रह ही है। सत्य तो यह ही है कि शनि प्रकृति में संतुलन पैदा करता है, और हर प्राणी के साथ उचित न्याय करता है। जो लोग अनुचित विषमता और अस्वाभाविक समता को आश्रय देते हैं, शनि केवल उन्ही को दण्डिंत (प्रताडित) करते हैं।

Chapters

भारत में तीन चमत्कारिक शनि सिद्ध पीठ

महाराष्ट्र का शिंगणापुर गांव का सिद्ध पीठ

मध्यप्रदेश के ग्वालियर के पास शनिश्चरा मन्दिर

उत्तर प्रदेश के कोशी के पास कौकिला वन में सिद्ध शनि देव का मन्दिर

शनि की साढे साती

शनि परमकल्याण की तरफ़ भेजता है

काशी में शनिदेव ने तपस्या करने के बाद ग्रहत्व प्राप्त किया था

शनि मंत्र

शनि बीज मन्त्र

शनि अष्टोत्तरशतनामावली

शनि स्तोत्रम्

शनि चालीसा

शनिवज्रपञ्जर-कवचम्

शनि संबंधी रोग

शनि यंत्र विधान

शनि के रत्न और उपरत्न

शनि की जुड़ी बूटियां

शनि सम्बन्धी व्यापार और नौकरी

शनि सम्बन्धी दान पुण्य

शनि सम्बन्धी वस्तुओं की दानोपचार विधि

शनि ग्रह के द्वारा परेशान करने का कारण

शनि मंत्र