Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

शनि मंत्र

भविष्यपुराण के अनुसार शनिदेव को शनि अमावस्या बहुत प्रिय है। जिन लोगों पर साढ़ेसाती, ढैय्या चल रही हो उन्हें इस अमावस्या पर शनि की साधना करनी चाहिए। शनि की शांति के लिए शनि स्तवराज, शनि स्तोत्र और शनि अष्टक का पाठ तथा शनि के मंत्रों का जाप और शनि की वस्‍तुओं का दान करना चाहिए, क्योंकि शनि अमावस्या का दिन संकटों से समाधान के लिए बहुत शुभ माना गया है।

शनिवार, 18 नवंबर को शनि अमावस्या के दिन एक विशेष शुभ संयोग 'शोभन योग' निर्मित हो रहा है। यह संयोग न केवल शनि दोषों से मुक्ति दिलाएगा, बल्कि जीवन के सभी कष्टों को दूर करने में भी सहायक रहेगा। शनि संबंधी सभी दोषों के निवारण करने में शनि मंत्र विशेष रूप से शुभ रहते हैं। अत: शनि अमावस्या अथवा शनिवार के शनि मंदिर में जाकर इन शनि मंत्रों का स्मरण करना चाहिए।

शनि के चमत्कारिक मंत्र :

* ॐ शं शनिश्चराय नम:

* ॐ धनदाय नम:

* शनि नमस्कार मंत्र - ॐ नीलांजनं समाभासं रविपुत्रम् यमाग्रजम्।
छाया मार्तण्डसंभूतम् तं नमामि शनैश्चरम्।।

* ॐ मन्दाय नम:
* ॐ मन्दचेष्टाय नम:

* ॐ क्रूराय नम:

* ॐ भानुपुत्राय नम:

* तांत्रिक शनि मंत्र-
ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः

* सिद्ध शनि तैतीसा यंत्र - ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः

अपार लक्ष्मी प्राप्ति की कामना से इन मंत्रों का जाप करने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहेगी तथा आपको मनचाहे धन की प्राप्ति होगी।

शनि देव 2

संकलित
Chapters
भारत में तीन चमत्कारिक शनि सिद्ध पीठ
महाराष्ट्र का शिंगणापुर गांव का सिद्ध पीठ
मध्यप्रदेश के ग्वालियर के पास शनिश्चरा मन्दिर
उत्तर प्रदेश के कोशी के पास कौकिला वन में सिद्ध शनि देव का मन्दिर
शनि की साढे साती
शनि परमकल्याण की तरफ़ भेजता है
काशी में शनिदेव ने तपस्या करने के बाद ग्रहत्व प्राप्त किया था
शनि मंत्र
शनि बीज मन्त्र
शनि अष्टोत्तरशतनामावली
शनि स्तोत्रम्
शनि चालीसा
शनिवज्रपञ्जर-कवचम्
शनि संबंधी रोग
शनि यंत्र विधान
शनि के रत्न और उपरत्न
शनि की जुड़ी बूटियां
शनि सम्बन्धी व्यापार और नौकरी
शनि सम्बन्धी दान पुण्य
शनि सम्बन्धी वस्तुओं की दानोपचार विधि
शनि ग्रह के द्वारा परेशान करने का कारण
शनि मंत्र