Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

युधिष्ठिर का स्त्री जाति को श्राप

महाभारत के शांति पर्व के अनुसार युद्ध समाप्त होने के बाद जब कुंती ने युधिष्ठिर को बताया कि कर्ण तुम्हारा बड़ा भाई था तो पांडवों को बहुत ज्यादा दुख हुआ। तब युधिष्ठिर ने विधि-विधान पूर्वक कर्ण का अंतिम संस्कार किया। माता कुंती ने जब पांडवों को कर्ण के उनके जन्म का रहस्य बताया तो शोक में आकर युधिष्ठिर ने संपूर्ण स्त्री जाति को श्राप दिया कि – आज से कोई भी स्त्री कोई भी गुप्त बात छिपा कर नहीं रख सकेगी।

पुराणों के सबसे प्रसिद्द श्राप

हिंदी संपादक (विशेष लेखन)
Chapters
भूमिका
युधिष्ठिर का स्त्री जाति को श्राप
ऋषि किंदम का राजा पांडु को श्राप
माण्डव्य ऋषि का यमराज को श्राप
नंदी का रावण को श्राप
कद्रू का अपने पुत्रों को श्राप
उर्वशी का अर्जुन को श्राप
तुलसी का भगवान विष्णु को श्राप
श्रृंगी ऋषि का परीक्षित को श्राप
राजा अनरण्य का रावण को श्राप
परशुराम का कर्ण को श्राप
तपस्विनी का रावण को श्राप
गांधारी का श्रीकृष्ण को श्राप
महर्षि वशिष्ठ का वसुओं को श्राप
शूर्पणखा का रावण को श्राप
ऋषियों का साम्ब को श्राप
दक्ष का चंद्रमा को श्राप
माया का रावण को श्राप
शुक्राचार्य का राजा ययाति को श्राप
ब्राह्मण दंपत्ति का राजा दशरथ को श्राप
नंदी का ब्राह्मण कुल को श्राप
नलकुबेर का रावण को श्राप
श्रीकृष्ण का अश्वत्थामा को श्राप
तुलसी का श्रीगणेश को श्राप
नारद का भगवान विष्णु को श्राप
गौतम का इंद्र और अहिल्या को श्राप