Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

राजीव दीक्षित

राजीव दीक्षित एक सामाजिक कार्यकर्त्ता थे जिनकी मौत ४३ की उम्र में ३० नवम्बर २०१० को हो गयी थी |

 वह वैश्वीकरण, उदारीकरण और निजीकरण की बुराइयों पर अपनी राय पेश करते थे |वह करों के विकेन्द्रीकरण का समर्थन करते थे और किसानों के हकों के लिए भी आगे चलके पहर्वी करते थे |बदकिस्मती से अपने इस रवैये के कारण उन्होनें सरकार और कंपनियों आदि में कई दुश्मन बना लिए थे |

उनकी मौत ३० नवम्बर २०१० को दिल के दौरे से भिलाई छत्तीसगढ़ से लौटते वक़्त हो गयी | लेकिन उनकी मौत एक बाद उनके शव का परिक्षण नहीं हुआ | उनका शव नीला–काला रंग का हो रहा था जिसका मतलब है ज़हर दिया गया था | लेकिन मीडिया ने भी इस पर कोई आवाज़ नहीं उठाई और आज तक पता नहीं चला की क्या हुआ था |