Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

चंद्रशेखर प्रसाद

३१ मार्च १९९७ को राष्ट्रिय जनता दल के सदस्य मोहम्मद शहाबुद्दीन के गोली धारकों ने उन्हें गोली मार दी |

एक गरीब घर एमिन जन्मे चंद्रशेखर ने सिवान से अपनी पढाई पूरी कर राजनितिक कार्यकर्त्ता बनने का फैसला किया |एक बार जेएनयु में शामिल होने के बाद चंद्रशेखर ने ऐसा नाम का एक छात्र संगठन शुरू किया | उन्हें ३ बार लगातार छात्र यूनियन का राष्ट्रपति चुना गया | 

उन्हें ३१ मार्च १९९७ को बिहार की सिवान में बैठक का सामना करते समय गोली मार दी गयी | उनके क़त्ल की वजह उनकी बढती लोकप्रियता को माना जाता है | 

उनके मौत से देश भर में छात्रों ने बेहद विरोध प्रदर्शन किये | कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया और सजा भी हुई पर पुलिस को इस नेता की मौत की साजिश करने वाला का पता नहीं चला |