Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

पुनर्जन्म की सत्य कहानियां - शांति देवी

शांति देवी बच्चों की पिछले जन्म की यादों के सबसे बेहतरीन मामलों में से एक हैं | उनकी महात्मा गाँधी द्वारा  प्रसिद्द नागरिकों की एक समिति ने जांच की थी जो शांति देवी के साथ उनके पिछले जन्म के गाँव में गए थे और वहां की घटनाओं का परिलेख भी किया  | 

१८ जनवरी १९०२ में मथुरा निवासी चतुर्भुज के घर एक बेटी का जन्म हुआ जिसका नाम रखा गया लुगडी| जब लुगडी १० साल की हुई तो उसकी पास के दुकानदार केदारनाथ चौबे के साथ शादी कर दी गयी  | ये केदारनाथ की दूसरी शादी थी क्यूंकि उसकी पहली पत्नी की मौत हो गयी थी |केदारनाथ की मथुरा में और एक हरिद्वार में कपड़ों की दुकान थी | लुगड़ी बहुत धार्मिक थी और काफी कम उम्र में कई धार्मिक स्थलों पर जा चुकी थी | ऐसी ही एक तीर्थ यात्रा में उसके पैर में चोट लग गयी थी जिसका इलाज पहले मथुरा और  फिर आगरा में किया गया | 

जब लुगड़ी पहली बार गर्भवती हुई तो ऑपरेशन के बाद भी उसे मरा हुआ बच्चा पैदा हुआ | दूसरी बार के लिए उसका चिंतित पति उसे आगरा के सरकारी हस्पताल में ले गया , जहाँ उसने ऑपरेशन से ही 25 सितम्बर १९२५ को  एक बेटे को जन्म दिया | लेकिन ९ दिन बाद ४ अक्टूबर को लुगड़ी की हालत बिगड़ गयी और उसकी मौत हो गयी | 

लुगड़ी की मौत के एक साल १० महीने और ७ दिन बाद ११ दिसम्बर १९२६ को दिल्ली के चिरावाला मोहल्ला में बाबु रंग बहादुर माथुर के यहाँ एक बेटी का जन्म हुआ जिसका नाम उन्होनें शांति देवी रखा | वह किसी साधारण लड़की जैसी ही थी लेकिन ४ साल की उम्र तक भी वह ज्यादा नहीं बोल पाती थी | पर जब वह बोलना शुरू हुई , तो वह अलग ही लड़की थी – वह अपने “पति” और “बच्चे” की बात करती थी | 

उसने बताया की उसके पति मथुरा में हैं जहाँ उनकी कपडे की दूकान है और उनका एक बेटा है | वह अपने को चौबाइन (चौबे की बीवी) कहने लगी | माँ बाप ने इसे बच्चे की कल्पना समझ इस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया | लेकिन वह तब चिंता में पड़ गए जब उसने बार बार अपने पति के साथ अपनी मथुरा की ज़िन्दगी की बात करनी शुरू कर दी | कई बार खाने के वक़्त वह कहती “मथुरा में अपने घर में मैं अलग तरह की मिठाई खाती थी” | उसने अपने पति की तीन पहचान बताईं ,वह गोरा था , उसके बांये गाल पर बड़ा मस्सा था और वह चश्मा पहनता था | उसने ये भी बताया की उसके पति की दुकान द्वारकाधीश मंदिर के सामने थी | 

इस समय तक शांति देवी 6 साल की हो गयी थी और उसके माँ बाप उसकी बातों से परेशान हो गए थे |लड़की ने तो अपनी मौत का विस्तृत ब्यौरा भी सब को दे दिया था |उन्होनें अपने चिकित्सक को ये बात बताई तो वह हैरान था की इतनी छोटी बच्ची इन  जटिल शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं के बारे में कैसे जानती थी | इस तरह से राज़ और गहरा होता गया |जैसे जैसे समय निकलता गया वह अपने माँ बाप से मथुरा चलने की विनती करती रही | लेकिन करीब आठ या नौ साल तक उसने अपने पति का नाम नहीं बताया क्यूंकि भारत में औरतें अपने पति का नाम नहीं लेती| अगर कोई पूछता तो वह शर्मा जाती बस ये कहती की वहां ले जाओ में उन्हें पहचान लूंगी | एक दिन एक रिश्तेदार बाबु बिशंचंद जो की दिल्ली के विद्यालय में अध्यापक थे ,उन्होनें शांति से कहा की अगर वह अपने पति का नाम बताएगी तो वह उसे मथुरा ले जायेंगे | इस प्रलोभन में आ उसने उनके कान  में पंडित केदारनाथ चौबे नाम बताया |बिशंचंद ने उसे कहा की वह बात पता कर मथुरा की यात्रा की तैयारी करेंगे | उन्होनें पंडित केदारनाथ चौबे को ख़त लिखा और उन्हें दिल्ली आने को कहा | केदारनाथ ने सब बातों की पुष्टि कर सुझाव दिया की उनका दिल्ली में रहने वाला रिश्तेदार पंडित कान्जिमल शांति से पहले मिल ले | 


कंजिमल के साथ एक बैठक बुलाई गयी जिसमें शांति देवी ने उसकी अपने पति के भाई के रूप में पहचान की | उन्होनें अपने मथुरा के घर और जहाँ उसने पैसा गाडा था उसकी भी कुछ जानकारी दी | उसने ये भी कहा की अगर उसको मथुरा ले जाया गया तो वह खुद से रेलवे स्टेशन से घर पहुँच सकती है |कंजिमल के कहने पर केदारनाथ 12 नवम्बर १९३५ को लुगड़ी के बेटे नवनीत लाल और अपनी आज की पत्नी के साथ दिल्ली पहुंचे | शांति ने आसानी से अपनी पति की पहचान करली और अपनी माँ को बोला “मेने कहा था न की मेरे पति गोरे हैं और उनके गाल पर एक मस्सा है | उन्होनें अपनी माँ को अपने पति की पसंदीदा सब्जी बनाने को कहा | फिर केदारनाथ के ज्यादा सवाल करने पर उन्होनें अपने मथुरा के घर में स्थित कुँए का ज़िक्र किया जहाँ वह रोज़ नहाती थी |उसने अपने बेटे की भी आसानी से पहचान करली हांलाकि वह उसे बहुत छोटा छोड़ कर ख़तम हो गयी थी | उन्होनें अपनी पति से ये सवाल भी किया की वादा करने के बावजूद भी उन्होनें दूसरी शादी क्यूँ कर ली | 

केदारनाथ के जाने के बाद शांति देवी बहुत उदास हो गयी और मथुरा जाने की ज़िद करने लगीं | गांधीजी के द्वारा गठित समिति उन्हें मथुरा लेकर पहुंची जहाँ उन्होंने अपने घर का पता रिक्शे वाले को आराम से दे दिया | अपने घर पहुँच उसने वहां मोजूद सब लोगों की पहचान भी की और घर के मुख्य कमरों का रास्ता भी बताया | शांति ने अन्य स्थानों की भी आसानी से पहचान कर ली और उस जगह के बारे में भी बताया जहाँ उसने पैसे छुपाये थे | अपने पिता के घर जाने पर उसने अपने माँ बाप को पहचाना और अपनी माँ से गले मिल खूब रोई जिसे देख सब लोग हैरान रह गए | 

अपनी जांच के दौरान केदारनाथ के एक दोस्त पंडित रामनाथ चौबे ने एक महत्वपूर्ण बात बताई जिसकी हमने और सूत्रों से भी पुष्टि की | जब केदारनाथ दिल्ली में थे तो वह पंडित रामनाथ चौबे के यहाँ एक रात रुके थे | सब सो गए थे और सिर्फ केदारनाथ , उसकी पत्नी , बेटा नवनीत और शांति कमरे में थे | नवनीत गहरी नींद में था | केदारनाथ ने शांति से पुछा की जब उसे गठिया था और वह उठ नहीं सकती थी तो वह गर्भवती कैसे हो गयी | शांति ने केदारनाथ के साथ सम्भोग की पूरी प्रक्रिया का वर्णन किया जिससे केदारनाथ को पूरा यकीन  हो गया की शांति ही उसकी पत्नी लुगड़ी है | 

जब इस घटना का ज़िक्र शांति देवी से किया गया उसने कहा “हाँ इसी बात से उन्हें मुझ पर पूरा यकीन हो गया था”|