Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

भूमिका

पुनर्जन्म वह दार्शनिक या धार्मिक अवधारणा है जिसके मुताबिक आत्मा ,शरीर के मरने के बाद दुसरे शरीर में एक नया जीवन शुरू कर सकती है | ये अवधारणा हिन्दू धर्म की एक मुख्य विचारधारा है | बोद्ध धर्म के दुबारा जन्म की अवधारणा को भी पुनर्जन्म कहा जाता है और प्य्थाग्रोस , प्लेटो और सोक्रेटस जैसी एतिहासिक हस्तियाँ भी इस विचार में विश्वास रखती थीं | ये कई पुराने और आधुनिक धर्म जैसे अध्यात्म, ब्रह्मविद्या, और एकांकर का भी हिस्सा है और पूर्वी एशिया , साइबेरिया , दक्षिण अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के कई जगहों में मोजूद जातियों का भी अभिन्न अंग हैं | 

हांलाकि  यहूदी, ईसाई और इस्लाम के अब्राहमिक धर्मों के अधिकतर गुट नहीं मानते की व्यक्ति पुनर्जन्म ले सकता है , लेकिन फिर भी इनमें कुछ गुट हैं जो पुनर्जन्म को मान्यता देते हैं ; इन गुटों में शामिल हैं काब्बालाह , कैथर , द्रुज़े और रोजीक्रूशनस के इतिहासिक और समकालीन शिष्य | पिछले कुछ दशकों में कई यूरोप और उत्तर अमेरिका के लोगों ने अभी पुनर्जन्म में रूचि दिखाई है | समकालीन फिल्मों , किताबों ,और लोकप्रिय गानों में भी कई बार पुनर्जन्म का ज़िक्र होता है |