Android app on Google Play

 

किले का इतिहास

 

ये किला जयसिंह द्वितीय ने 1726 में बनवाया था |इसके बाद वह आज़ादी तक आपने पूर्वजों के संरक्षण में ही रहा | आपातकाल में खजाने को ढूँढने  लिए केंद्र ने 25 फरवरी 1976 को इसे राष्ट्रीय स्मारक घोषित कर दिया था। बाद में ब्रिगेडियर भवानी सिंह ने बहुत कोशिश की जिसके बाद इस किले को दोबारा राजपरिवार की संपत्ति बना दिया गया |11 दिसम्बर 1982 को ये किला भवानी सिंह को मिला और 3 दिन में उन्होनें इसे जयगढ़ पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट के नाम से पंजीकृत करा लिया |27 जुलाई 1983 को इस किले को सार्वजानिक कर दिया गया |