Android app on Google Play

 

मानसिंह द्वितीय

 


उस काल के एक वरिष्ठ पत्रकार राजेन्द्र बोड़ा ने बताया की जहाँ इमरजेंसी में मीडिया के सोच विचार पर प्रतिबन्ध था वहां जयगढ़ किले से जुडी ख़बरें लोगों ने बड़े शौक से पढ़ी |ये खबरे भी आई थी की इस खजाने का काफी हिस्सा जयपुर को बसने में लग गया था | लेकिन फिर भी जवाहरात अभी भी सुरक्षित थे |मानसिंह द्वितीय ने आपने समय में इस खजाने के एक हिस्से को मोतीडूंगरी में रखा था |