Android app on Google Play

 

ज्वाला गुट्टा

http://s3.india.com/wp-content/uploads/2014/09/jwala-gutta.jpg

ज्वाला गुट्टा का जन्म 7 सितंबर 1983 को वर्धा, महाराष्ट्र में हुआ था। उनके पिता एम. क्रांति तेलुगु और मां येलन चीन से हैं। उनकी मां येलन गुट्टा पहली बार 1977 में अपने दादा जी के साथ भारत आई थीं। ज्वाला गुट्टा की प्रारंभिक पढ़ाई हैदराबाद से हुई और यहीं से उन्होंने बैडमिंटन खेलना भी शुरू किया।10 साल की उम्र से ही ज्वाला गुट्टा ने एस.एम. आरिफ से ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था। एस.एम. आरिफ भारत के जाने माने खेल प्रशिक्षक हैं जिन्हें द्रोणाचार्य अवार्ड से सम्मानित किया गया है। पहली बार 13 साल की उम्र में उन्होंने मिनी नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप जीती थी। साल 2000 में ज्वाला गुट्टा ने 17 साल की उम्र में जूनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप जीती। इसी साल उन्होंने श्रुति कुरियन के साथ डबल्स में जोड़ी बनाते हुए महिलाओं के डबल्स जूनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप और सीनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप में जीत हासिल की। श्रुति कुरियन के साथ उनकी जोड़ी काफी लंबे समय तक चली। 2002 से 2008 तक लगातार सात बार ज्वाला गुट्टा ने महिलाओं के नेशनल युगल प्रतियोगिता में जीत हासिल की।
महिला डबल्स के साथ-साथ ज्वाला गुट्टा ने मिश्रित डबल्स में भी सफलता हासिल की और भारत की डबल्स में सबसे बेहतरीन खिलाड़ी बनीं।[3] 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में भी ज्वाला गुट्टा ने अपने पार्टनर अश्विनी पोनप्पा के साथ भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता। कॉमनवेल्थ गेम्स के बाद से एक बार फिर ज्वाला गुट्टा भारतीय बैडमिंटन में चर्चा का विषय बन गई हैं।
ग्लासगो में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स, 2014 में ज्वाला गुट्टा ने स्वर्ण पदक हासिल किया