Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

वृद्धाक्षत्र

जयद्रथ ने अभिमन्यु को कुरुक्षेत्र में मारा था |अर्जुन ने ये कसम खायी की अगले दिन सूर्यास्त से पहले वह जयद्रथ को मार देंगे | जयद्रथ के पिता वृद्धाक्षत्र को ये बात जयद्रथ के जन्म के समय से पता थे | उस वक़्त दुःख से लिप्त उन्होनें श्राप दे दिया – जिसकी वजह से मेरे बेटे का सर धरती पर गिरेगा उसका सर उसी क्षण टूट कर बिखर जाएगा | 

अर्जुन अगले दिन जयद्रथ का सर काट देते हैं | कृष्ण अर्जुन से कहते हैं की उसका सर ऐसे कटे की वृद्धाक्षत्र की गोद में गिरे | वृद्धाक्षत्र जो उस वक़्त तपस्य कर रहे थे ये देख नहीं पाते हैं | जब वह तपस्या से उठते हैं तो कटा सर पृथ्वी पर गिर जाता है और जयद्रथ  का सर टुकड़े टुकड़े हो जाता है |