Android app on Google Play

 

जय जय जी विघ्नहरा आरती तु...

 

जय जय जी विघ्नहरा आरती तुला॥
ओंवाळीन प्रेमरसी तारी तूं मला ॥धृ.॥

रत्नजडीत हेममुकुट मस्तकावरी।
शोभतसे पाशांकुश तुझिया करी॥
वारुनिया विघ्न समूह धांव झडकरी।
राही पाही येई मम सदना॥ गजवदना। अघदमना।शरण मी तुला॥१॥

आरती ही धरुनि करीं रुप पाहती।
गजमुख हे अति सुंदर शोभते किती।
गातो गुण वासुदेवा वंदी गणपती॥
धावें। पावें। यावें। विघ्नहरा। भक्तवरा वंद्यसुरा। सुखवि तूं मला॥२॥