Android app on Google Play

 

शनि के प्रथम चरण का प्रभाव

 

प्रथम चरण में शनि जब चन्द्रमा से 12 वें भाव में गुजरता है तब ढाई वर्ष में जो नतीजे मिलते हैं वह इस प्रकार हैं। इस क्रम में व्यक्ति के माता पिता एवं नज़दीकी सम्बन्धियों को और उसको खुद  भी अशुभ परिणाम भुगतने होते है। इस दौरान आंखों में पीड़ा की अनुभूति होती है। इस स्थिति में शनि तीसरी दृष्टि से 2 भाव को देखता है जिससे आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस दौरान  दशम दृष्टि से नवम भाव को देखने से कार्यों में बाधा महसूस होती है और व्यक्ति के पिता को भी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है |