मंदिरों का सत्य (Hindi)


हिंदी संपादक (विशेष लेखन)
भारतीय समाज में मंदिर का निर्माण और मूर्तियों का पूजन कब शुरू हुई ये अभी तक एक रहस्य बना हुआ है | ये भी सच है की वैदिक काल में मूर्ति पूजन नहीं हुआ करता था | तब सभी लोग एक शिला पर खड़े हो ब्रह्म का आह्वान करते थे |इसके इलावा यज्ञों द्वारा भी प्रभु की पूजा अर्चना की जाती थी | शिवलिंग का पूजन तो तब भी प्रचलन में था |उस समय के ऋषि जंगल में अपना घर बना तपस्या कर अपना जीवन व्यतीत करते थे | हांलाकि लोग सभी देवी देवताओं का पूजन करते थे लेकिन वह मंदिरों में जाकर नहीं होता था | आईये जानते हैं मंदिरों से जुडी और ऐसी कई रोचक बातें