Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

बिहारी महाराज का प्राकट्य स्थल


विशाखा कुंड से थोड़ी ही दूर पर स्थित हैं बिहारी जी महाराज का प्राकट्य स्थान |ऐसी मान्यता है की संगीत सम्राट स्वामी हरिदास श्री बहुत तल्लीनता से स्वामी जी  के भजन गाया करते थे |ऐसे में एक दिन प्रभु ने प्रसन्न हो उनको स्वप्न में दर्शन दिया | भगवान ने कहा की जहाँ तुम समाधी करते हो वहीँ के समीप विशाखा कुंड के पास में छुपा हुआ हूँ |उस सपने के आधार पर बाबा ने ज़मीन खोद कर मूर्ति बाहर निकाल ली |इसी स्थान पर बिहारी जी का प्राकट्य स्थल बना दिया गया है | समय आने पर इस मूर्ति को बांके बिहारी मंदिर में स्थानांतरित कर दिया गया |