Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

प्राचीन लोकतंत्र

एथेंस के प्राचीन गणराज्य को लंबे समय तक सबसे पुराना गैर-आदिवासी औरदुनिया में संगठित लोकतंत्र माना जाता है | आधुनिक युग के दौरान, जातीय रूप से प्रेरित यूरोपीय 'इतिहासकारों' ने विकृत या महत्वपूर्ण भारतीय और औपनिवेशिक ऐतिहासिक उपलब्धियों को फिर से लिखा, गौतम बुद्ध, बौद्ध धर्म के संस्थापक, की जिंदगी और मृत्यु की तारीख को बदलने से, ऐसे दिखने के लिए के वो परिकल्स और सोक्रेट्स के बाद जिए थे, से लेकर गण-संघ या गण राज्य नामक प्राचीन भारतीय गणराज्यों के अस्तित्व के ज्ञात संदर्भों को  छोड़ने तक |

इसी तरह, वैशाली के प्राचीन भारतीय गणराज्य का इतिहास, जो की 600 ईसा पूर्व का है- एथेनियन गणराज्य लोकतंत्र की संस्था से लगभग एक शताब्दी पुराना, जिसे भी समायोजित किया गया था, आज के औपनिवेशक प्रचार के समर्थन में | विडंबना यह है कि प्राचीन ग्रीस ने ही भारत और इसकी उपलब्धियों के प्रति महत्वपूर्ण सम्मान और आकर्षण का प्रदर्शन किया था, लेकिन हमारे सामूहिक इतिहास के इस और कई अन्य पहलुओं में आधुनिक युग औपनिवेशिक प्रचार की विरासत,आज भी हमारे साथ है |

एक और पूरी तरह से अलग और अधिक व्यापक रूप से ज्ञात भारतीय लोकतंत्र का प्राचीन रूप स्थानीय 'पंचायत' प्रणाली है, जिसका शाब्दिक अर्थ हैपाँचसम्मानित और श्रधास्पद बडों का संगठन | प्राचीन भारतीय शहर और राज्य स्तर के गणराज्यों के विपरीत, पंचायत तीन हज़ार साल पहले स्थानीय और जमीनी स्तर पर लोकतंत्र के एक  में शुरू हुई, और पंचायत प्रणाली ने कई साम्राज्यों को विजय और पतन से बचाया, और अब भी भारत के आधुनिक लोकतांत्रिक तंत्र की एक केंद्रीय विशेषता है।