Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

वस्त्र दुनिया

एक और क्रांतिकारी भारतीय योगदान कपड़ों के लिए सूती वस्त्रों का विकास, उत्पादन और उपयोग था। प्राचीन ग्रीक शुरूआत में कपास से भी परिचित नहीं थे, बजाय सिकंदर महान के युद्ध तक जानवर की खाल पहनते थे, जिसके दौरान उन्होंने भारतीय कपड़ों की खोज की और वापर शुरू कीया, जो वास्तव में कपडे हम पहन रहे है | "ईसाई युग से सैकड़ों साल पहले, सूती वस्त्र भारत में अद्वितीय कौशल के साथ बुने गए थे, और उनका उपयोग भूमध्य देशों में फैल गया।" कोलंबिया इनसाइक्लोपीडिया हमारे लिए ब्रिटेन में, यह जानना जरूरी है कि आधुनिक राष्ट्र के रूप में हमारे धन के खंभे में से एक, और हमारे औद्योगिक क्रांति की नींव, सीधे भारत में उतपन्न उच्च गुणवत्ता वाले वस्त्र उत्पादन और व्यापार के ज्ञान और अनुभव से प्राप्त किया गया था, साथ ही कई आर्थिक इतिहासकारों का तर्क है कि भारत के अग्रणी वस्त्र उद्योग का जानबूझकर निराकरण किया गया था। दान नादुदेरे ने अपनी किताब "थी पॉलिटिकल इकॉनमी ऑफ़ इम्पीरिअलिस्म" में यह कहा है की-

"भारतीय कपड़ा उद्योग को नष्ट करके ही ब्रिटिश वस्त्र उद्योग कभी ऊपर आ सकता है"|