Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

चौथा सुराग

ऐसा पता चलता है की वह औरत कई नामों से नॉर्वे के अलग अलग होटल में रुकी थी | और क्यूंकि हर स्थान पर उसे अपना पहचान पात्र दिखाना ज़रूरी था इसलिए उसके पास कई फर्जी पासपोर्ट भी थे | होटल नेप्टुन की एक वेट्रेस अल्व्ह्लिद रंग्निस उस औरत की फैशन स्टाइल से बहुत प्रबहवित हुई थी | रंग्निस ने उसे दो जर्मन नेवी अफसरों  के साथ खाना खाते देखा था जिसमें से एक काफी बड़ी पोस्ट पर था | 

ऐसा पता चलता है की वह औरत जर्मन में भी बात कर लेती थी | उसको बार बार कमरे बदलने की आदत थी और एक बार तो उसने अपना कमरा तीन बार बदलवाया था |