Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

मझगाँव किला


मझगाँव किला एक ब्रिटिश किला है जो भारतीय राज्य महाराष्ट्र में बॉम्बे (मुम्बई) में १६८० के आसपास बांधा गया था। जून  १६९० में सिद्दी जनरल याकूत खान ने इस पे हमला किया। किला वर्तमान दिन यूसुफ बाप्तिस्ता गार्डन में, भंडारवाड़ा पहाड़ी के ऊपर, डॉकयार्ड रोड रेलवे स्टेशन के बाहर स्थित था। अठारहवीं सदी तक, बंबई कई छोटे द्वीपों में शामिल थे। १६६१ में पुर्तगालियों द्वारा इनमे से ७ द्वीप दहेज के तौर पर इंग्लैंड के राजा चार्ल्स द्वितीय को दिए गए जब उसने ब्रगांजा की कैथेरिन से शादी की। यह बंदरगाह उत्कृष्ट रूप में योग्य था, इसलिए अंग्रेजो ने सूरत से अपना तल यहाँ बदलने की योजना बनाई। अफ्रीका से आये हुए सिद्दियों ने जाना के उनकी नौसेना ने मुग़लों से अच्छे सम्बन्ध बनाये। ईस्ट  इंडिया कंपनी से ब्रिटिश और मुग़ल के बिच लगातार युद्ध चालू था। मुग़लों के साथ अच्छे सम्बन्ध रहने के कारन सिद्दियों ने भी ब्रिटिशों को अपना दुश्मन माना। 
१६७२ में सिद्दियों द्वारा निर्दयी हमलो के बाद, अंग्रेज़ों ने कई जगह से किलेबंदी की, और १६८० में सिवरी किले का काम पूरा हो गया। यह मझगाँव द्वीप पर खड़ा था, पूर्वी समुद्र तट पर नजर रखे हुए। 
१६८९ में सिद्दी जनरल याकूत खान ने २०,००० सिपाहियों की सेन लेकर बॉम्बे पर हमल किया। पहले बेड़े ने सिवरी किले कब्ज़ा किया, फिर मझगाँव किला, फिर माहिम के शहर को बर्खास्त किया। १६८९ में सिद्दियों ने ब्रिटिशों की दक्षिण किलेबंदी को घेर लिया। ब्रिटिश राज्यपाल सर जॉन चाइल्ड ने मुघल राजा औरंगज़ेब से दरख्वास्त की के वो एक कीमत के लिए साकट में राज करे। फरवरी १६९० में मुघल राजा मान गया और १.५ लाख रुपये (१ अरब डॉलर) की फिरौती मांगी और चाइल्ड को नौकरी से बर्खास्त करने का निर्णय लिया। चाइल्ड की १६९० में अचानक मौत हो जाने से वह बर्खास्त करने की बदनामी से बच गया। 
वस्तु विनिमय पर गुस्से में आकर, मझगाँव किला गिराने के बाद, ८ जून १६९० को सकत ने अपनी सेना वापिस ले ली। 
१८८४ में ब्रिटिशों ने भंडारवाद पहाड़ी पर एक बड़ा जलाशय विकसित किया। यह दक्षिण और मध्य मुम्बई को पानी की आपूर्ति करता है। एक लोकप्रिय मनोरंजन जमीन यूसुफ बप्तिस्ता  के नाम पर है, एक स्वतंत्रता सेनानी और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के कार्यकर्ता बाल गंगाधर तिलक के करीबी सहयोगी।