Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

पशु बलि प्रथा

प्राचीन समय में देवताओं को प्रसन्न करने के लिए पशु बलि देने की प्रथा प्रचलन में आई |पर क्या पशु बलि हिन्दू धर्म प्रथा का मूल हिन्दू धर्म है | इस सवाल का उत्तर नहीं है |सभी वेदों में पशु की बलि देने की बात की भी निंदा की गयी है |हकीकत में हिन्दू धर्म में कई लोक परमपराओं की धाराएं जुडती रही और उन्ही का नतीजा है की पशु बलि इतनी प्रचलन में आ गयी |पशु बलि प्रथा के संबंध में पंडित श्रीराम शर्मा की किताब 'पशुबलि : हिन्दू धर्म और मानव सभ्यता पर एक कलंक' में लिखा है 

'' न कि देवा इनीमसि न क्या योपयामसि। मन्त्रश्रुत्यं चरामसि।।'-...  सामवेद-2/7
अर्थ : ''देवों! हम हिंसा नहीं करते और न ही ऐसा अनुष्ठान करते हैं, वेद मंत्र के आदेशानुसार आचरण करते हैं।''

अर्थात ये एक निंदनीय कार्य है और किसी को भी ऐसा नहीं करना चाहिए | तो ज़ाहिर है ये मान्यता हिन्दू धर्म का हिस्सा नहीं है बल्कि लोक परमपराओं ने इसे इतना महत्वपूर्ण बना दिया है |