Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

श्रीकृष्ण की गंध

प्रचलित कथाओं के अनुसार माना जाता है कि उनके शरीर से एक मादक गंध निकलती रहती थी। इस गंध को वे अपने गुप्त अभियानों में छुपाने की कोशिश करते थे। यही खूबी द्रौपदी में भी थी।
 द्रौपदी के शरीर से भी एक सुगंध निकलती रहती थी जो लोगों को आकर्षित करती थी। 
 
सभी इस सुगंध की दिशा  में देखने लगते थे। इसीलिए अज्ञातवास के समय द्रौपदी को चंदन, उबटन और इत्रादि का कार्य दिया गया जिसके चलते उनको सैरंध्री कहा जाने लगा था।माना जाता है कि श्रीकृष्‍ण के शरीर से निकलने वाली गंध गोपिकाचंदन और कुछ-कुछ रातरानी की सुगंध से मिलती जुलती थी।