Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

दुर्योधन का मंदिर

केरल के एदक्कड़ वार्ड जिले में स्थित है मलानद मंदिर जहाँ आज तक दुर्योधन की पूजा करते हैं |

दुर्योधन ने दक्षिण के जंगल की तरफ यात्रा शुरू की और इस स्थान पर पहुंचा | वह इतना थका हुआ था की उसने पास के घर की मालकिन से पानी माँगा | उसने उस वक़्त ये ध्यान नहीं दिया की वह घर शुद्र जाती के सरदार का है | उस औरत ने जल्द ही दुर्योधन को थकावट मिटाने के लिए जड़ी बूटी मिली हुई शराब दी पीने के लिए | जब दुर्योधन उनको शुक्रिया कहने लगा तो उसकी नज़र उनके मंगलसूत्र पर पड़ी जिससे उसके कम दबके का होने का पता चल रहा था | वैसे भी किसी पिछड़ी जाती के व्यक्ति का किसी क्षत्रिय को खाने या पीने की वस्तु देना वर्जित था | उस औरत को लगा की उसे इस गलती की सजा मिलेगी लेकिन दुर्योधन ने कहा , “ माँ भूख और प्यास की कोई जाती नहीं होती”|  

दुर्योधन ने फिर यहाँ के जाती के लोगों को १०१ योजन धरती दी और कहा की वह उन्हें बिना मूर्ति का एक मंदिर दे रहा है | लेकिन इस मंदिर का पंडित एक कुराव शुद्र होना चाहिए |आज तक भी इस मंदिर का पंडित उस बूड़ी औरत के वंशज हैं | लेकिन यहाँ पर पूजे जाने वाले देव हैं दुर्योधन , उसकी पत्नी भानुमती , माँ गांधारी और दोस्त कर्ण |