Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

भूमिका

25 दिसम्बर १९१० एक दूरदर्शी ने हॉल ऑफ़ अमेरिका इंडिया पिक्चर पैलेस में कदम रखा जहाँ उसने देखी  फिल्म ‘द लाइफ ऑफ़ क्राइस्ट’ | निकलते समय उसने भारतीय फिल्म उद्योग के विकास के मुद्दे को ध्यान में रखा | ये आदमी था “दादासाहेब फाल्के” | उनकी बीवी ने अगर उस समय अपने पति को अपने जेवर नहीं दिए होते तो २००६ में अमिताभ बच्चन तिरुपति बालाजी पर ९ करोड़ का हार नहीं चड़ा पाते | 

उन्हें ४५ दिन लगे एक २०० फीट की फिल्म बनाने में | एक ऐसी फिल्म जिसमें एक पौधे की पेड़ बनने की बढ़त दिखाई गयी है | ३ मई १९३१ को राजा हरिशचंद्र कोरोनेशन थिएटर मुंबई में दिखाई गयी और उसके दो महीने के अंदर ‘आलम आरा’ मैजेस्टिक सिनेमा में दिखाई गयी | ये दोनों ही फिल्में हाउसफुल गयीं और उसका बोर्ड आज भी एक मशहूर अभिनेत्री के पास है | ऐसा माना जाता है की भारतीय फिल्म उद्योग का स्वतंत्रता संग्राम में भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है | उन्होनें लोगों को एहसास दिलाया की उनकी एक विशिष्ट पहचान और संस्कृति है और उन्हें अपनी तकदीर खुद बनाने का हक है | 

१९४७ में अभिनेत्री पहली मिस इंडिया बनी | उनका असली नाम एस्तेर विक्टोरिया अब्राहम था और उन्होनें “ मदर इंडिया” में परदे के पीछे से योगदान दिया | वह पहली फिल्म थी जो बकिंघम पैलेस में दिखाई गयी | 
१९४८ में पूरा देश विभाजन और आज़ादी के ज़ख्मों से ट्रस्ट था | फिल्म उद्योग थोडा शांत हो गया लेकिन फिर इसी शन्ति से उभरे एक नए विषय की फिल्में जैसे हम दोनों | इस साल को एम् एस सुब्बुलक्ष्मी के उत्थान के लिए भी जाना जाता है हांलाकि वह तब फिल्म उद्योग से सम्बंधित नहीं थी ;वह पहली गायिका थीं जिन्हें भारत रत्ना से नवाज़ा गया |