Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

अगर ज़ीका वायरस सालों से एशिया और अफ्रीका में मोजूद था तो उसका और माइक्रोसीफेली का सम्बन्ध पहले क्यूँ नहीं सामने आया?

ऐसा हो सकता है की वायरस ने इससे पहले कभी भी बिना सुरक्षा वाली इतनी बड़ी आबादी पर हमला नहीं बोला हो |
माइक्रोसेफेली दुर्लभ है और उसकी अन्य वजह भी हो सकती हैं जैसे रूबेला (जर्मन मीजल्स), साय्टोमेगालोवायरस  या टोक्सोप्लाज़मोसिज़ की वजह से भ्रूण को संक्रमण ; शराब, पारा या विकिरण की वजह से भ्रूण को नुक्सान , या डायबिटीज और अत्यधिक कुपोषण | यह डाउन सिंड्रोम सहित अन्य जीन म्यूटेशन के कारण भी होता है।
अभी तक स्वास्थ्य अधिकारीयों ने ज़ीका वायरस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया है | वह डेंगू और चिकनगुनिया वाले क्षेत्रों में ही प्रचलित था और इन दो दर्दनाक संक्रमण के देखे-उपनाम “हड्डी तोड़ बुखार” और “झुकाने वाला बुखार”-  ज़ीका काफी मंद संक्रमण है |
ऐसा माना जाता है की ये वायरस अफ्रीका से एशिया करीब ५० साल पहले पहुँच चुका था | जब वह पहले फैला था तो हो सकता है की उसने माइक्रोसेफेली को भी प्रचलित किया हो , पर उस वक़्त कई वजहों में से किसी भी एक वजह को इंकित करने के लिए कोई जांच नहीं थी | 
२००७ में ज़ीका वायरस की एक दक्षिण पूर्व एशियाई प्रजाति ने दक्षिण पसिफ़िक में जन्म लेना शुरू किया जिससे कई असुरक्षित द्वीपों पर इसका प्रकोप फ़ैल गया | क्यूंकि द्वीपों की आबादी कम होती है तो ऐसे छोटे दुर्लभ लक्षण लोगों की नज़र में नहीं आये | पर २०१३ में फ्रेंच पोलीनीशिया(जहाँ २७०००० की आबादी है) में प्रकोप के दौरान डोक्टरों ने गिल्लन बर्रे सिंड्रोम , जिससे लकवा होता है , के 42 मामलों की पुष्टि की  | ये सामान्य संख्या से 8 गुना था और इससे पहली बार ये बात सामने आई की ज़ीका वायरस दिमाग पर असर कर सकता है |
ज़ीका की सबसे पहले पुष्टि ब्राज़ील(२० करोड़ की आबादी) में  पिछले मई में हुई और फिर ये जंगल की आग की तरह फैलता गया | माइक्रोसफली के बारे में पहली चेतावनी अक्टूबर में उठाई गयी , जब उत्तरपूर्व के पेर्नाम्बुको राज्य के डोक्टरों ने इस बीमारी के साथ पैदा होने वाले बच्चों में वृद्धि की खबर दी | परनमबुको की आबादी नौ लाख है और वहां हर साल 129,000 जन्म होते है। एक साधारण साल में ९ नवजात माइक्रोसेफलिक होते हैं |
नवम्बर २०१५ तक , जब ब्राज़ील ने इसे स्वास्थ्य आपदा घोषित किया, पेर्नाम्बुको में ऐसे ६४६ जन्म हो चुके थे | 

ज़ीका वायरस - कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब

Shivam
Chapters
भूमिका
ज़ीका वायरस क्या है ?
ये वायरस कैसे फैलता है ?
कैसे ज़ीका नवजातों के दिमाग को क्षति पहुंचाता है ?
माइक्रोसीफेली क्या है?
कौन कौन से देशों में गर्भवती महिलाओं को नहीं जाना चाहिए?
कैसे पता चले की में संक्रमित हूँ? क्या कोई टेस्ट मोजूद है ये पता करने के लिए ?
में गर्भवती हूँ और हाल ही में एक ज़ीका संक्रमित देश की यात्रा से लौटी हूँ ?अब मैं क्या करूं?
मैं प्रसव उम्र की हूँ लेकिन न तो गर्भवती हूँ न ही गर्भ धारण करने का कोई इरादा है?क्या में इन देशों की यात्रा पर जा सकती हूँ ?
मैं अब गर्भवती हूँ पर तब नहीं थी जब प्रचलन वाले देश गयी थी ? बीमारी की सम्भावना कितनी है ?
क्या इस बात से फर्क पड़ता है की औरत को गर्भ के कौन से समय में संक्रमण हुआ?
क्या नवजातों की जांच होनी चाहिए ?
क्या कोई इलाज है ?
क्या कोई टीका है ? लोग अपनी सुरक्षा कैसे करें?
अगर ज़ीका वायरस सालों से एशिया और अफ्रीका में मोजूद था तो उसका और माइक्रोसीफेली का सम्बन्ध पहले क्यूँ नहीं सामने आया?
क्या ब्राज़ील के बाहर किसी ज़ीका वायरस के प्रकोप को माइक्रोसीफेली से जोड़ा गया है?