Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

ओ मेरे देश की मिट्टी-रबीन्द्रनाथ टैगोर

ओ मेरे देश की मिट्टी, तुझपर सिर टेकता मैं। तुझी पर विश्वमयी का, तुझी पर विश्व-माँ का आँचल बिछा देखता मैं।।

कि तू घुली है मेरे तम-बदन में, कि तू मिली है मुझे प्राण-मन में, कि तेरी वही साँवली सुकुमार मूर्ति ने्म-गुँथी, एकता में।।

कि जन्म तेरी कोख और मरण तेरी गोद का मेरा, तुझी पर खेल दुख कि सुखामोद का मेरा! तुझी ने मेरे मुँह में कौर दिया, तुझी ने जल दिया शीतल, जुड़ाया, तृप्त किया, तुझी में पा रहा सर्वसहा सर्वंवहा माँ की जननी का पता मैं।।

बहुत-बहुत भोगा तेरा दिया माँ, तुझसे बहुत लिया- फिर भी यह न पता कौन-सा प्रतिदान किया। मेरे तो दिन गये सब व्यर्थ काम में, मेरे तो दिन गये सब बंद धाम में - ओ मेरे शक्ति-दाता, शक्ति मुझे व्यर्थ मिली, लेखता मैं।

कथासरित्सागर

संकलित
Chapters
वररुचि की कथा
गुणाढ्य की कथा
राजा विक्रम और दो ब्राह्मणों की कथा
शूरसेन और सुषेणा की कथा
कैवर्तककुमार की कथा
काबुलीवाला
अनमोल वचन - रबीन्द्रनाथ टैगोर
दिन अँधेरा-मेघ झरते - रबीन्द्रनाथ टैगोर
चल तू अकेला! - रबीन्द्रनाथ टैगोर
विपदाओं से रक्षा करो, यह न मेरी प्रार्थना - रबीन्द्रनाथ टैगोर
ओ मेरे देश की मिट्टी-रबीन्द्रनाथ टैगोर
राजा का महल-रबीन्द्रनाथ टैगोर
पूस की रात - मुंशी प्रेमचंद
मिट्ठू - मुंशी प्रेमचंद
दो बैलों की कथा - मुंशी प्रेमचंद
वैराग्य - मुंशी प्रेमचंद
यह भी नशा, वह भी नशा - मुंशी प्रेमचंद
राष्ट्र का सेवक - मुंशी प्रेमचंद
परीक्षा - मुंशी प्रेमचंद
कितनी जमीन? - लियो टोल्स्टोय