Android app on Google Play

 

मूर्ति पर चड़े फूल

जिस तरह से किसी को देहाग्नी देने के बाद हम पीछे मुढ कर नहीं देखते हैं वैसे ही मंदिर में जो भी फूल चढ़ते  हैं उनको भी परिसर के पीछे वाले हिस्से में डाल दिया जाता है |ये फूल तैरते हुए फिर मंदिर से 20 किलोमीटर दूर वेर्पेदु नाम के स्थान पर तैरते हुए देखा जा सकता है |ऐसा करने अशुभ माना जाता है इसलिए पुजारी इन फूलों को नहीं देखते हैं |