Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

नीराजन एवं विसर्जन

नीराजन/आरती
निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ने के पश्चात्, भगवान गणेश की आरती करें।
   चंद्रादित्यो च धरणी विद्युद्ग्निंस्तर्थव च |
    त्वमेव सर्वज्योतीष आर्तिक्यं प्रतिगृह्यताम ||
    
पुष्पाञ्जलि अर्पण
निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए भगवान गणेश को पुष्पाञ्जलि समर्पित करें।
    नानासुगन्धिपुष्पाणि यथाकालोदभवानि च |
    पुष्पांजलिर्मया दत्तो गृहाण परमेश्वर: ||
    
प्रदक्षिणा
भगवान गणेश की प्रदक्षिणा (बाएँ से दाएँ ओर की परिक्रमा) के साथ निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीगणेश को फूल समर्पित करें।
    यानि कानि च पापानि जन्मान्तर कृतानि च |
    तानि तानि विनश्यन्ति प्रदक्षिण पदे पदे ..|
    प्रदक्षिणा नमस्कारान् समर्पयामि

विसर्जन
दाहिने हाथ में अक्षत, पुष्प लेकर विसर्जन हेतु निम्न-लिखित मन्त्र पढ़े।
    रक्ष रक्ष गणाध्यक्ष रक्ष त्रैलोक्य रक्षक:
    भक्तानामभयं कर्ता त्राता भव भवार्णवात ||
    अनया पूजया गणपति: प्रीयतां न मम ||