Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

भीष्म प्रतिज्ञा

एक दिन शांतनु नदी के तट पर घूम रहे थे जब उनकी नज़र वहां नाव चलाती एक कन्या पर पड़ी | वह कन्या बहुत सुन्दर थी और शांतनु उसके रूप पर मुग्ध हो गए | उन्होनें उस कन्या के पिता के सम्मुख विवाह का प्रस्ताव रखा | निषाद राज ने कहा की उन्हें विवाह से कोई आपत्ति नहीं है लेकिन शांतनु को उनकी कन्या सत्यवती के पुत्र को राज्य सौंपना होगा | ये सुन शांतनु मन मार वहां से चले गए | वह बेहद दुखी रहने लगे जिस कारण भीष्म ने उनके मंत्रियों से दुःख का कारण पुछा | वह स्वयं निषाद राज के घर गए और उन्हें ये वादा किया की वह जैसा चाहेंगे वैसा ही होगा | यही नहीं उन्होनें आजीवन कुंवारे रहने की कसम भी खा ली | जिसे देख निषाद राज प्रसन्न हो गए और अपनी पुत्री को देवव्रत  के साथ जाने दिया |