Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

कालकूट विष

समुद्र मंथन में से सबसे पहले कालकूट विष निकला था , जिसे भगवान शिव ने ग्रहण कर लिया था । इससे तात्पर्य है कि अमृत (परमात्मा) हर इंसान के मन में स्थित है। अगर हमें अमृत चाहिए तो सबसे पहले हमें अपने मन को मथना पड़ेगा । जब हम अपने मन को मथेंगे तो सबसे पहले बुरे विचार उसमें से बाहर निकलेंगे। यही बुरे विचार तो विष है।