Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

ड़ाएन मैक्सवेल जैक्सन

एफ़्बीआई की एक सालाना परंपरा है  जिसमें किसी हिंसक अपराध में सजा दिलवाने वाले किसी एक  फिंगरप्रिंट तकनीशियन को पुरस्कृत किया जाता है  | २०११ में ये पुरस्कार जीतने वाले ने १९६९ के एक केस में खुलासा किया था | 

१९६९ क्रिसमस के समय हॉस्टन में टेलीफोन ऑपरेटर डायने जैक्सन को अपने कार्यक्षेत्र के पार्किंग एरिया से अगवा कर लिया गया | पास ही की एक शैक में उसके साथ बलात्कार कर उसका गला घोंट और चाकू मार कर उसकी हत्या कर दी गयी | पुलिस को उँगलियों के निशान मिले पर जब वह किसी से मेल नहीं खाते थे तो वह कुछ ज्यादा मददगार साबित नहीं हुए | 

१९८९ में जैक्सन का भाई जो अब पुलिस में अफसर था , उसने दुबारा केस की शुरुआत की | एक हॉस्टन के अख़बार ने जनता से गुज़ारिश की अगर कोई जानकारी उन्हें मिले तो वो आगे मुहैया करें | तकनीकी विकास होने से और फिंगरप्रिंट  के लिए डेटाबेस बनने से , उस फिंगरप्रिंट को दुबारा ढूँढा गया | स्थानीय डेटाबेस में से कोई भी नतीजा नहीं निकला | 

फिर जुलाई २००३ में एफ बी आई तकनीशियन जिल किन्कडे को ७० लाख लोगों के फिंगरप्रिंट्स में सिर्फ 5 घंटे ढूँढने के बाद मेल खाते कुछ प्रिंट मिले |किन्कडे ने उसमें से २० संभावित गुनह्गारों की एक सूची बनायी , जिसमें से एक पर पुलिस की पैनी नज़र थी और वो था जेम्स रे दविएस | दविएस को पूछताछ के लिए बुलाया गया और पता चला की जैक्सन के क़त्ल से कुछ दिनों पहले ही वह जेल से छूटा था | 
24 नवम्बर २००३ को अपनी बहन के क़त्ल के तीन दशक के बाद डेविड जैक्सन ने उसके कातिल को अपना गुनाह कबूलते देखा | दविएस को उसकी  बाकी की ज़िन्दगी के लिए जेल भेज दिया गया |