Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

आंकड़े

संस्कृत पाठ: शनि के कक्षा पूरी करने में कितने दिन लगते हैं?

स्रोत                                 पार्शवीय घूर्णन का अनुमानित समय

सूर्य सिद्धांत                     १०,७६५ दिन, १८ घंटे, ३३ मिनट, १३.६ सैकिण्ड
सिद्धांत शिरोमणि             १०,७६५ दिन, १९ घंटे, ३३ मिनट, ५६.५ सैकिण्ड
क्लाडियस टॉलमी             १०,७५८ दिन, १७ घंटे, ४८ मिनट, १४.९ सैकिण्ड
२०वीं शताब्दी आकलन     १०,७५९ दिन, ५ घंटे, १६ मिनट, ३२.२ सैकिण्ड

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अलग अलग राशियों के व्यक्तियों में इसका प्रभाव भी अलग अलग होता है। कुछ व्यक्तियों को साढ़े साती आरम्भ होने के कुछ समय पूर्व ही इसके संकेत मिल जाते हैं और अवधि समाप्त होने से पूर्व ही उसके प्रभावों से मुक्त हो जाते हैं, वहीं कुछ लोगों को देर से शनि का प्रभाव दिखाई पड़ता है और साढ़े साती समाप्त होन के कुछ समय बाद तक इसके प्रभाव समाप्त होते हैं। उनके अनुसार साढ़े साती के संदर्भ में कुण्डली में जन्म चन्द्र से द्वादश स्थान का विशेष महत्व है। इस स्थान का महत्व अधिक इसलिये हैं कि द्वादश स्थान चन्द्र रशि के निकट होता है। ज्योतिष में द्वादश स्थान से काल पुरूष के पैरों का विश्लेषण किया जाता है तो दूसरी ओर बुद्धि पर भी इसका प्रभाव होता है।