Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

प्रधानमन्त्री के रूप में

ऐतिहासिक शपथ ग्रहण समारोह

नरेन्द्र मोदी का २६ मई २०१४ से भारत के १५वें प्रधानमन्त्री का कार्यकाल राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में आयोजित शपथ ग्रहण के पश्चात प्रारम्भ हुआ। मोदी के साथ ४५ अन्य मन्त्रियों ने भी समारोह में पद और गोपनीयता की शपथ ली। प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी सहित कुल ४६ में से ३६ मन्त्रियों ने हिन्दी में जबकि १० ने अंग्रेज़ी में शपथ ग्रहण की। समारोह में विभिन्न राज्यों और राजनीतिक पार्टियों के प्रमुखों सहित सार्क देशों के राष्ट्राध्यक्षों को आमंत्रित किया गया। इस घटना को भारतीय राजनीति की राजनयिक कूटनीति के रूप में भी देखा जा रहा है।

सार्क देशों के जिन प्रमुखों ने समारोह में भाग लिया उनके नाम इस प्रकार हैं।

अफ़्गानिस्तान – राष्ट्रपति हामिद करज़ई
बांग्लादेश – संसद की अध्यक्ष शिरीन शर्मिन चौधरी
भूटान – प्रधानमन्त्री शेरिंग तोबगे
मालदीव – राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन अब्दुल गयूम
मॉरिशस – प्रधानमन्त्री नवीनचन्द्र रामगुलाम
नेपाल – प्रधानमन्त्री सुशील कोइराला
पाकिस्तान – प्रधानमन्त्री नवाज़ शरीफ़
श्रीलंका – प्रधानमन्त्री महिन्दा राजपक्षे

ऑल इण्डिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्ना द्रमुक) और राजग का घटक दल मरुमलार्ची द्रविड़ मुनेत्र कझगम (एमडीएमके) नेताओं ने नरेन्द्र मोदी सरकार के श्रीलंकाई प्रधानमंत्री को आमंत्रित करने के फैसले की आलोचना की। एमडीएमके प्रमुख वाइको ने मोदी से मुलाकात की और निमंत्रण का फैसला बदलवाने की कोशिश की जबकि कांग्रेस नेता भी एमडीएमके और अन्ना द्रमुक आमंत्रण का विरोध कर रहे थे। श्रीलंका और पाकिस्तान ने भारतीय मछुवारों को रिहा किया। मोदी ने शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित देशों के इस कदम का स्वागत किया।

इस समारोह में भारत के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित किया गया था। इनमें से कर्नाटक के मुख्यमंत्री, सिद्धारमैया (कांग्रेस) और केरल के मुख्यमंत्री, उम्मन चांडी (कांग्रेस) ने भाग लेने से मना कर दिया। भाजपा और कांग्रेस के बाद सबसे अधिक सीटों पर विजय प्राप्त करने वाली तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता ने समारोह में भाग न लेने का निर्णय लिया जबकि पश्चिम बंगाल के मुख्यमन्त्री ममता बनर्जी ने अपनी जगह मुकुल रॉय और अमित मिश्रा को भेजने का निर्णय लिया।

वड़ोदरा के एक चाय विक्रेता किरण महिदा, जिन्होंने मोदी की उम्मीदवारी प्रस्तावित की थी, को भी समारोह में आमन्त्रित किया गया। अलवत्ता मोदी की माँ हीराबेन और अन्य तीन भाई समारोह में उपस्थित नहीं हुए, उन्होंने घर में ही टीवी पर लाइव कार्यक्रम देखा।

नरेन्द्र मोदी

गणित तज्ज्ञ
Chapters
नरेन्द्र दामोदरदास मोदी
निजी जीवन
प्रारम्भिक सक्रियता और राजनीति
गुजरात के मुख्यमन्त्री के रूप में
2001-02
गुजरात के विकास की योजनाएँ
मोदी का वनबन्धु विकास कार्यक्रम
श्यामजीकृष्ण वर्मा की अस्थियों का भारत में संरक्षण
आतंकवाद पर मोदी के विचार
2002 के गुजरात दंगे
२०१४ लोकसभा चुनाव : प्रधानमन्त्री पद के उम्मीदवार
लोक सभा चुनाव २०१४ में मोदी की स्थिति
२०१४ लोकसभा चुनाव: परिणाम
भाजपा संसदीय दल के नेता निर्वाचित
वडोदरा सीट से इस्तीफ़ा दिया
प्रधानमन्त्री के रूप में
भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण उपाय
भारत के अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध
सूचना प्रौद्योगिकी
स्वास्थ्य एवं स्वच्छता
रक्षा नीति
घरेलू नीति
आमजन से जुड़ने की मोदी की पहल
ग्रन्थ
सम्मान और पुरस्कार