Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

फ्रैंकनस्टाइन

मेरी शेली इस बात पर हमेशा कायम रही कि उन्होंने एक सपना देखा था जहां से फ्रैंकनस्टाइन नाम अस्तित्व में आया। नाम के असलीपन को लेकर उनके कई दावों के बावजूद ये कई कयासों और विवादों से घिरा रहा है। वास्तविक तौर पर जर्मन भाषा में फ्रैंकनस्टाइन का अर्थ है "फ्रैंक्स का पत्थर". ये नाम कई जगहों से जुड़ा है, जैसे कि कासल फ्रैंकनस्टाइन(बर्ग फ्रैंग्कंस्टीन), जिसे उपन्यास लिखने से पहले मेरी शेली ने एक नाव पर यात्रा के दौरान देखा था। फ्रैंकनस्टाइन पेलेटिनेट क्षेत्र में एक कस्बे का नाम भी है; और 1946 से पहले पोलैंड के सिलिसिया में ज़ाबकोविस स्लास्की नाम के शहर को फ्रैंकनस्टाइन इन शलेशियन के तौर पर भी जाना जाता था।

हाल में ही, राडू फ्लोरेशु ने अपनी किताब इन सर्च ऑफ फ्रैंकनस्टाइन में दावा किया कि मेरी और पर्सी शेली ने स्विट्ज़रलैंड जाते समय राइन नदी के किनारे, डार्मस्टेट स्थित कासल फ्रैंकनस्टाइन का दौरा किया था, जहां कोनराड डिपल नाम के एक कुख्यात कीमियागार ने मानव शरीर के साथ प्रयोग किए थे, लेकिन मेरी शेली ने इस यात्रा का ज़िक्र नहीं किया था ताकि असलीपन का उसका दावा कायम रहे. हाल ही के एक साहित्यिक निबंध में ए जे डे ने फ्लोरेशु के इस दावे को सही ठहराया कि मेरी शेली कासल फ्रैंकनस्टाइन के बारे में जानती है और अपना उपन्यास लिखने से पहले वह वहां गई थीं. डे ने इसके लिए मेरी शेली के "गुम" हुए दस्तावेज़ों का हवाला दिया है जिसमें कथित तौर पर फ्रैंकनस्टाइन कासल का ज़िक्र है। हालांकि इस सिद्धांत को कुछ लोग सही नहीं मानते हैं; फ्रैंकनस्टाइन विशेषज्ञ लियोनार्ड वुल्फ इसे एक "अपुष्ट... षड़यंत्र का सिद्धांत" करार दिया है, उनके मुताबिक 'गुम हुए दस्तावेज़ों' और फ्लोरेशु के दावों की पुष्टि नहीं की जा सकती.