Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

चौदहवां भाग : बयान - 10

कुंअर इन्द्रजीतसिंह, आनन्दसिंह और राजा गोपालसिंह बात कर ही रहे थे कि वही औरत चमेली की टट्टियों में फिर दिखाई दी और इन्द्रजीतसिंह ने चौंककर कहा, ''देखिए वह फिर निकली!''

राजा गोपालसिंह ने बड़े गौर से उस तरफ देखा और यह कहते हुए उस तरफ रवाना हुए कि, ''आप दोनों भाई इसी जगह बैठे रहिये, मैं इसकी खबर लेने जाता हूं।''

जब तक राजा गोपालसिंह चमेली की टट्टी के पास पहुंचे तब तक वह औरत पुनः अन्तर्ध्यान हो गई। गोपालसिंह थोड़ी देर तक उन्हीं पेड़ों में घूमते-फिरते रहे इसके बाद इन्द्रजीतसिंह और आनन्दसिंह के पास लौट आए।

इन्द्रजीत - कहिए क्या हुआ?

गोपाल - हमारे पहुंचने के पहिले ही वह गायब हो गई, गायब क्या हो गई बस उसी दर्जे में चली गई जिसमें देवमन्दिर है। मेरा इरादा तो हुआ कि उसका पीछा करूं मगर यह सोचकर लौट आया कि उसका पीछ करके उसे गिरफ्तार करना घण्टे - दो घण्टे का काम नहीं है बल्कि दो-चार पहर या दो-एक दिन का काम है, क्योंकि देवमन्दिर वाले दर्जे का बहुत बड़ा विस्तार है तथा छिप रहने योग्य स्थानों की भी वहां कमी नहीं है और मुझे इस समय इतनी फुरसत नहीं। इसका खुलासा हाल तो इस समय आप लोगों से न कहूंगा, हां इतना जरूर कहूंगा कि जिस समय मैं अपनी तिलिस्मी किताब लेने गया था और उसके न मिलने से दुःखी होकर लौटा चाहता था उसी समय एक और दुःखदाई खबर सुनने में आई जिसके सबब से मुझे कुछ दिन के लिए जमानिया तथा आप दोनों भाइयों का साथ छोड़ना आवश्यक हो गया है और दो घण्टे के लिए भी यहां रहना मैं पसन्द नहीं करता, फिर भी कोई चिन्ता की बात नहीं है, आप लोग शौक से इस तिलिस्म के जिस हिस्से को तोड़ सकें तोड़ें मगर इस औरत का जो अभी दिखाई दी थी बहुत ध्यान रक्खें। मेरा दिल यही कहता है कि मेरी तिलिस्मी किताब इस औरत ने चुराई है क्योंकि यदि ऐसा न होता तो वह यहां तक कदापि न पहुंच सकती।

इन्द्र - यदि ऐसा हो तो कह सकते हैं कि वह हम लोगों के साथ भी दगा किया चाहती है।

गोपाल - निःसन्देह ऐसा ही है, परन्तु यदि आप लोग उसकी तरफ से बेफिक्र न रहेंगे तो वह आप लोगों का कुछ भी न बिगाड़ सकेगी, साथ ही इसके यदि आप उद्योग में लगे रहेंगे तो वह किताब भी जो उसने चुराई है, हाथ लग जायेगी।

इन्द्र - जो कुछ आपने आज्ञा दी है मैं उस पर विशेष ध्यान रक्खूंगा मगर मालूम होता है कि आपने कोई बहुत दुःखदाई खबर सुनी है क्योंकि यदि ऐसा न होता तो इस अवस्था में और तिलिस्मी किताब खो जाने की तरफ ध्यान न देकर आप यहां से जाने का इराद न करते!

आनन्द - और अब आप कह ही चुके हैं कि उसका खुलासा हाल न कहेंगे तो हम लोग पूछ भी नहीं सकते!

गोपाल - निःसन्देह ऐसा ही है, मगर कोई चिन्ता नहीं आप लोग बुद्धिमान हैं और जैसा उचित समझें करें, हां एक बात मुझे और भी कहनी है!

इन्द्र - वह क्या?

गोपाल - (एक लपेटा हुआ कागज लालटेन के सामने रखकर) जब मैं उस औरत के पीछे चमेली की टट्टियों में गया तो वह औरत तो गायब हो गई मगर उसी जगह यह लपेटा हुआ कागज ठीक दरवाजे के ऊपर ही पड़ा हुआ मुझे मिला, पढ़ो तो सही इसमें क्या लिखा है।

इन्द्रजीतसिंह ने उस कागज को खोलकर पढ़ा, यह लिखा हुआ था -

''यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि न तो आप लोग मुझे जानते हैं और न मैं आप लोगों को जानती हूं, इसके अतिरिक्त जब तक मुझे इस बात का निश्चय न हो जाय कि आप लोग मेरे साथ किसी तरह की बुराई न करेंगे तब तक मैं आप लोगों को अपना परिचय भी नहीं दे सकती। हां इतना अवश्य कह सकती हूं कि मैं बहुत दिनों से कैदियों की तरह इस तिलिस्म में पड़ी हूं। यदि आप लोग दयावान् और सज्जन हैं तो मुझे इस कैद से अवश्य छुड़ावेंगे।

कोई दुःखिनी।''

गोपाल - (आश्चर्य से) यह तो एक दूसरी ही बात निकली!

इन्द्र - ठीक है मगर इसके लिखने पर हम लोग विश्वास ही क्यों कर सकते हैं?

गोपाल - आप सच कहते हैं, हम लोगों को इसके लिखने पर यकायक विश्वास न करना चाहिए। खैर मैं जाता हूं आप जो उचित समझेंगे करेंगे। आइए इस समय हम लोग एक साथ बैठके भोजन तो कर लें, फिर क्या जाने कब और क्योंकर मुलाकात हो।

इतना कहकर गोपालसिंह ने वह चंगेर जो अपने साथ लाए थे और जिसमें खाने की अच्छी-अच्छी चीजें थीं, आगे रक्खीं और तीनों भाई एक साथ भोजन और बीच-बीच में बातचीत भी करने लगे। जब खाने से छुट्टी मिली तो तीनों भाइयों ने नहर में से जल पीया और मुंह धोकर निश्चिन्त हुए। इसके बाद कुंअर इन्द्रजीतसिंह और आनन्दसिंह को बहुत कुछ समझा-बुझा और वहां से देवमन्दिर में जाने का रास्ता बताकर राजा गोपालसिंह वहां से रवाना हो गए।

चंद्रकांता संतति - खंड 4

देवकीनन्दन खत्री
Chapters
तेरहवां भाग : बयान - 1
तेरहवां भाग : बयान - 2
तेरहवां भाग : बयान - 3
तेरहवां भाग : बयान - 4
तेरहवां भाग : बयान - 5
तेरहवां भाग : बयान - 6
तेरहवां भाग : बयान - 7
तेरहवां भाग : बयान - 8
तेरहवां भाग : बयान - 9
तेरहवां भाग : बयान - 10
तेरहवां भाग : बयान - 11
तेरहवां भाग : बयान - 12
तेरहवां भाग : बयान - 13
चौदहवां भाग : बयान - 1
चौदहवां भाग : बयान - 2
चौदहवां भाग : बयान - 3
चौदहवां भाग : बयान - 4
चौदहवां भाग : बयान - 5
चौदहवां भाग : बयान - 6
चौदहवां भाग : बयान - 7
चौदहवां भाग : बयान - 8
चौदहवां भाग : बयान - 9
चौदहवां भाग : बयान - 10
चौदहवां भाग : बयान - 11
पन्द्रहवां भाग बयान - 1
पन्द्रहवां भाग बयान - 2
पन्द्रहवां भाग बयान - 3
पन्द्रहवां भाग बयान - 4
पन्द्रहवां भाग बयान - 5
पन्द्रहवां भाग बयान - 6
पन्द्रहवां भाग बयान - 7
पन्द्रहवां भाग बयान - 8
पन्द्रहवां भाग बयान - 9
पन्द्रहवां भाग बयान - 10
पन्द्रहवां भाग बयान - 11
पन्द्रहवां भाग बयान - 12
सोलहवां भाग बयान - 1
सोलहवां भाग बयान - 2
सोलहवां भाग बयान - 3
सोलहवां भाग बयान - 4
सोलहवां भाग बयान - 5
सोलहवां भाग बयान - 6
सोलहवां भाग बयान - 7
सोलहवां भाग बयान - 8
सोलहवां भाग बयान - 9
सोलहवां भाग बयान - 10
सोलहवां भाग बयान - 11
सोलहवां भाग बयान - 12
सोलहवां भाग बयान - 13
सोलहवां भाग बयान - 14