Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

नौवां भाग : बयान - 13

कल शाम को बाबाजी जमानिया गए थे और आज शाम होने के दो घंटे पहले ही लौट आये। दूर ही से अपने बंगले की हालत देख सिर हिलाकर बोले, ''मैं उसी समय समझ गया था जब मायारानी ने कहा था कि कैदियों को मैगजीन के बगल वाले तहखाने में कैद करना चाहिए।''

बाबाजी का बंगला जो बहुत ही खूबसूरत और शौकीनों के रहने के लायक था, बिल्कुल बर्बाद हो गया था, बल्कि यों कहना चाहिए कि उसकी एक-एक ईंट अलग हो गई थी। बाबाजी धीरे-धीरे उसके पास पहुंचे और कुछ देर तक गौर से देखने के बाद यह कहते हुए घूम पड़े कि 'जो हो मगर अजायबघर किसी तरह बर्बाद नहीं हो सकता।'

बाबाजी के बंगले के बर्बाद होने का सबब पाठक समझ ही गये होंगे, क्योंकि ऊपर के नौवां भाग : बयान में मायारानी और नागर की बातचीत से वह भेद साफ-साफ खुल चुका है। अब बाबाजी इस विचार में पड़े कि मायारानी को ढूंढकर उससे दो-दो बातें करनी चाहिए।

ऐसा करने में बाबाजी को विशेष तकलीफ नहीं उठानी पड़ी, क्योंकि थोड़ी ही दूर पर उन्हें उन लौंडियों में से एक लौंडी मिली जो उस समय मायारानी के साथ थी, जब बाबाजी कैदियों को तहखाने में बन्द करके दीवान से मिलने के लिए जमानिया की तरफ रवाना हुए थे। बाबाजी ने उस लौंडी से केवल इतना ही पूछा, ''मायारानी कहां हैं?'

लौंडी - जब आप जमानिया की तरफ चले गये तो मायारानी हम लोगों को साथ लेकर दिल बहलाने के लिए इस जंगल में टहलने लगीं और धीरे-धीरे यहां से कुछ दूर चली गईं। ईश्वर ने बड़ी कृपा की कि रानी साहिबा के दिल में यह बात पैदा हुई नहीं तो हम लोग भी टुकड़े-टुकड़े होकर उड़ गए होते, क्योंकि थोड़ी ही देर बाद भयानक आवाज सुनने में आई, और जब हम लोग इस बंगले के पास आये तो मिट्टी और गर्द के सबब अन्धकार हो रहा था। हम लोग डरकर पीछे की तरफ हट गये और अन्त में इस बंगले की ऐसी अवस्था देखने में आई जो आप देख रहे हैं। लाचार मायारानी ने यहां ठहरना उचित न समझा और नागर के साथ काशीजी की तरफ रवाना हो गईं।

बाबा - और तुझे इसलिए यहां छोड़ गई कि जब मैं आऊं तो बातें बनाकर मेरे क्रोध को बढ़ावे!

लौंडी - जी ई ई ई...।

बाबा - जी ई ई ई क्या बेशक यही बात है! खैर, अब तू भी यहां से वहीं चली जा और कम्बख्त मायारानी से जाकर कह दे कि जो कुछ तूने किया, बहुत अच्छा किया, मगर इस बात को खूब याद रखना कि नेकी का नतीजा नेक है औद बद को कभी सुख की नींद सोना नसीब नहीं होता। अच्छा ठहर, मैं एक चीठी लिख देता हूं सो लेती जा और जहां तक जल्द हो सके, मिलकर मायारानी के हाथ दे दे।

इतना कहकर बाबाजी बैठ गए और अपने बटुए से सामान निकालकर चीठी लिखने लगे, जब चीठी लिख चुके तो उसे लौंडी के हाथ में दे दिया और आप उत्तर तरफ रवाना हो गये।

इसमें कोई सन्देह नहीं कि यह लौंडी बाबाजी की चीठी लिए हुए काशीजी जायेगी और मायारानी से मिलकर चीठी उसके हाथ में देगी, मगर हम आपको अपने साथ लिए हुए पहले ही काशीजी पहुंचते हैं और देखते हैं कि मायारानी किस धुन में कहां बैठी है या क्या कर रही है।

रात पहर से ज्यादा जा चुकी है। काशी में मनोरमा वाले मकान के अन्दर एक सजे हुए कमरे में मायारानी नागर के साथ बैठी हुई कुछ बात कर रही है। इस समय कमरे में सिवाय नागर और मायारानी के और कोई नहीं है। कमरे में यद्यपि बहुत से बेशकीमती शीशे करीने के साथ लगे हुए हैं, मगर रोशनी दो दीवारगीरों में और एक सब्ज कंवल वाले शमादान में, जो मायारानी के सामने गद्दी के नीचे रखा हुआ है, हो रही है। मायारानी सब्ज मखमल की गद्दी पर गाव-तकिये के सहारे बैठी है। इस समय उसका खूबसूरत चेहरा, जो आज से तीन-चार दिन पहले उदासी और बदहवासी के कारण बेरौनक हो रहा था, खुशी और फतहमन्दी की निशानियों के साथ दमक रहा है और वह किसी सवाल का इच्छानुसार जवाब पाने की आशा में मुस्कुराती हुई नागर की तरफ देख रही है।

नागर - इसमें तो कोई सन्देह नहीं कि एक भारी बला आपके सिर से टली है, परन्तु यह न समझना चाहिए कि अब आपको किसी आफत का सामना न करना पड़ेगा।

मायारानी - इस बात को मैं जानती हूं कि जमानिया की गद्दी पर बैठने के लिए अब भी बहुत - कुछ उद्योग करना पड़ेगा, मगर मैं यह कह रही हूं कि सबसे भारी बला जो थी, वह टल गई। कम्बख्त कमलिनी ने भी बड़ा ही ऊधम मचा रहा था, अगर वह वीरेन्द्रसिंह की पक्षपाती न होती, तो मैं कभी का दोनों कुमारों को मौत की नींद सुला चुकी होती।

नागर - बेशक! बेशक!

मायारानी - और भूतनाथ का मारा जाना भी बहुत अच्छा हुआ, क्योंकि उसे इस मकान का बहुत-कुछ भेद मालूम हो चुका था और इस सबब से इस मकान के रहने वाले भी बेफिक्र नहीं रह सकते थे। मगर देखो तो सही, हरामजादे दीवान को क्या हो गया जो मुझसे एकदम ही फिर गया, बल्कि मुझको गिरफ्तार करने का उद्योग भी करने लगा।

नागर - जरूर यह बात भी उन्हीं नकाबपोशों की बदौलत हुई है।

मायारानी - ठीक है, पहले तो मैं बेशक ताज्जुब में थी कि न मालूम वे दोनों नकाबपोश कौन थे और कहां से आये थे और आज दीवान तथा सिपाहियों के बिगड़ने का सबब केवल यही ध्यान में आता है कि धनपत का भेद खुल जाने से उन लोगों ने मुझे बदकार समझ लिया, मगर अब मुझे निश्चय हो गया कि उन दोनों नकाबपोशों में से एक तो गोपालसिंह था।

नागर - मेरा भी यही निश्चय है, बल्कि मैं अभी यही बात अपने मुंह से निकालने वाली थी। उसके सिवाय और कोई ऐेसा नहीं हो सकता कि केवल सूरत दिखाकर लोगों को अपने वश में कर ले। सिपाहियों और दीवान को जरूर इस बात का निश्चय हो गया कि गोपालसिंह को तुमने कैद कर रखा था। खैर, जो होना था सो हो गया। अब तो राजा गोपालसिंह का नाम-निशान ही न रहा, जो फिर जाकर अपना मुंह उन लोगों को दिखावेंगे, अब थोड़े ही दिनों में उन लोगों को निश्चय करा दिया जायेगा कि वह राजा वीरेन्द्रसिंह का कोई ऐयार था।

मायारानी - तुम्हारा कहना बहुत ठीक है और मेरे नजदीक अब यह कोई बड़ी बात नहीं है कि बेईमान दीवान को गिरफ्तार कर लूं या मार डालूं, मगर एक बात का खुटका जरूर है।

नागर - वह क्या?

मायारानी - केवल इतना ही कि दीवान को मारने या गिरफ्तार करने के साथ ही साथ राजा वीरेन्द्रसिंह की उस फौज का भी मुकाबला करना पड़ेगा जो सरहद पर आ चुकी है।

नागर - इसमें तो कुछ भी सन्देह नहीं है और इस बात का भी विश्वास नहीं हो सकता कि तुम्हारी फौज तुम्हारा पक्ष लेकर लड़ने के लिए तैयार हो जायगी। फौजी सिपाहियों के दिल से गोपालसिंह का ध्यान दूर होना दो-एक दिन का काम नहीं है!

मायारानी - (कुछ सोचकर) तो क्या मैं अकेली राजा वीरेन्द्रसिंह की फौज को नहीं हटा सकती?

नागर - सो तो तुम्हीं जानो।

मायारानी - बेशक मैं ऐसा बड़ा काम कर सकती हूं मगर अफसोस, मेरा प्यारा धनपत...।

धनपत का नाम लेते ही मायारानी की आंखें डबडबा आईं। नागर ने अपने आंचल से उसकी आंखें पोंछीं और बहुत - कुछ धीरज दिया। इसी समय दरवाजे के बाहर से चुटकी बजाने की आवाज आई, जिसे सुनकर नागर समझ गई कि कोई लौंडी यहां आना चाहती है। नागर ने पुकारकर कहा, ''कौन है, चले आओ!''

वही लौंडी भीतर आती हुई दिखाई पड़ी जो बर्बाद हुए बंगले के पास बाबाजी से मिली थी और जिसके हाथ बाबाजी ने मायारानी के पास चीठी भेजी थी। उसको देखते ही मायारानी चैतन्य हो बैठी और बोली, ''कहो, दारोगा से मुलाकात हुई थी?'

लौंडी - जी हां।

मायारानी - (मुस्कुराकर) वह तो बहुत ही बिगड़ा होगा।

लौंडी - हां, बहुत झुंझलाये और उछले-कूदे, आपकी शान में कड़ी-कड़ी बातें कहने लगे, मगर मैं चुपचाप खड़ी सुनती रही। अन्त में बोले, ''अच्छा, मैं एक चीठी लिखकर देता हूं, इसे ले जाकर अपनी मायारानी को दे देना।''

मायारानी - तो क्या उसने चीठी लिखकर दी है?

लौंडी - जी हां, यह मौजूद है, लीजिए।

लौंडी ने चीठी मायारानी के हाथ में दे दी और मायारानी ने यह कहकर चीठी ले ली कि 'देखना चाहिए इसमें दारोगा साहब क्या रंग लाये हैं!' इसके बाद वह चीठी नागर के हाथ में देकर बोली, ''लो, इसे तुम ही पढ़ो!''

नागर चीठी खोलकर पढ़ने लगी। उस समय मायारानी की निगाह नागर के चेहरे पर थी। आधी चीठी पढ़ने के बाद नागर के चेहरे पर हवाइयां उड़ने लगीं और डर के मारे उसका हाथ कांपने लगा। मायारानी ने घबड़ाकर पूछा, ''क्यों क्या हाल है कुछ कहो तो!''

इसके जवाब में नागर ने लम्बी सांस लेकर चीठी मायारानी के सामने रख दी और बोली, ''ओह, मेरी सामर्थ्य नहीं कि इस चीठी को आखीर तक पढ़ सकूं। हाय, निःसन्देह वीरेन्द्रसिंह के ऐयारों का मुकाबला करना पूरा-पूरा पागलपन है।''

मायारानी ने घबराकर चीठी उठा ली और स्वयं पढ़ने लगी, पर वह भी उस चीठी को आधे से ज्यादा न पढ़ सकी। पसीना छूटने लगा, शरीर कांपने लगा, दिमाग में चक्कर आने लगे, यहां तक कि अपने को किसी तरह संभाल न सकी और बदहवास होकर जमीन पर गिर पड़ी।

(नौवां भाग समाप्त)

चंद्रकांता संतति - खंड 3

देवकीनन्दन खत्री
Chapters
नौवां भाग : बयान - 1
नौवां भाग : बयान - 2
नौवां भाग : बयान - 3
नौवां भाग : बयान - 4
नौवां भाग : बयान - 5
नौवां भाग : बयान - 6
नौवां भाग : बयान - 7
नौवां भाग : बयान - 8
नौवां भाग : बयान - 9
नौवां भाग : बयान - 10
नौवां भाग : बयान - 11
नौवां भाग : बयान - 12
नौवां भाग : बयान - 13
दसवां भाग : बयान - 1
दसवां भाग : बयान - 2
दसवां भाग : बयान - 3
दसवां भाग : बयान - 4
दसवां भाग : बयान - 5
दसवां भाग : बयान - 6
दसवां भाग : बयान - 7
दसवां भाग : बयान - 8
दसवां भाग : बयान - 10
ग्यारहवां भाग : बयान - 1
ग्यारहवां भाग : बयान - 2
ग्यारहवां भाग : बयान - 3
ग्यारहवां भाग : बयान - 4
ग्यारहवां भाग : बयान - 5
ग्यारहवां भाग : बयान - 6
ग्यारहवां भाग : बयान - 7
ग्यारहवां भाग : बयान - 8
ग्यारहवां भाग : बयान - 9
ग्यारहवां भाग : बयान - 10
बारहवां भाग : बयान - 1
बारहवां भाग : बयान - 2
बारहवां भाग : बयान - 3
बारहवां भाग : बयान - 4
बारहवां भाग : बयान - 5
बारहवां भाग : बयान - 6
बारहवां भाग : बयान - 7
बारहवां भाग : बयान - 8
बारहवां भाग : बयान - 9
बारहवां भाग : बयान - 10