Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

नंदी

शिलाद मुनि ब्रह्मचारी थे | लेकिन उनका वंश समाप्त हो रहा था | उनके पितरों ने उनसे वंश बढ़ाने की बात कही | शिलाद शिव की तपस्या में लग गए | शिव ने उनके घर जन्म लेने का वादा किया | कुछ दिनों बाद खेत जोतते हुए शिलाद को एक बालक प्राप्त हुआ | उस बालक का नाम नंदी रखा गया |आगे चल नंदी शिव के प्रमुख गणाध्यक्ष बने |उनका विवाह मरुतों की पुत्री सुयशा के साथ हुआ |