Android app on Google Play iPhone app Download from Windows Store

 

ऋभुका निदाघको अद्वैतज्ञानोपदेश

श्रीपराशरजी बोले-

हे मैत्रेय ! ऐसा कहनेपर, राजाको मौन होकर मन-ही-मन-सोच-विचार करते देख वे विप्रवर यह अद्वैत - सम्बन्धिनी कथा सुनाने लगे ॥१॥

ब्राह्मण बोले -

हे राजाशार्दुल ! पूर्वकालमें महर्षि ऋभुने महात्मा निदाघको उपदेश करते हुए जो कुछ कहा था वह सुनो ॥२॥

हे भूपते ! परमेष्ठी श्रीब्रह्माजीका ऋभु नामक एक पुत्र था , वह स्वभावसे ही परमार्थतत्त्वको जाननेवाला था ॥३॥

पूर्वकालमें महर्षि पुलस्त्यका पुत्र निदाघ उन ऋभुका शिष्य था । उसे उन्होंने अति प्रसन्न होकर सम्पूर्ण तत्वज्ञानका उपदेश दिया था ॥४॥

हे नरेश्वर ! ऋभुने देखा कि सम्पूर्ण शास्त्रोंका ज्ञान होते हुए भी निदाघकी अद्वैतमें निष्ठा नहीं हैं ॥५॥

उस समय देविकानदीके तीरपर पुलस्त्यजीका बसाया हुआ वीरनगर नामक एक अति रमणीक और समृद्धिसम्पन्न नगर था ॥६॥

हे पार्थिवोत्तम ! रम्य उपवनोंसे सुशोभित उस पुरमें पूर्वकालमें ऋभुका शिष्य योगवेता निदाघ रहता था ॥७॥

महर्षि ऋभु अपने शिष्य निदाघको देखनेके लिये एक सहस्त्र दिव्यवर्ष बीतनेपर उस नगरमें गये ॥८॥

जिस समय निदाघ बलिवैश्वदेवके अनन्तर अपने द्वारपर ( अतिथियोंकी ) प्रतीक्षा कर रहा था, वे उसके दृष्टिगोचर हुए और वह उन्हें द्वारपर पहूँच अर्घदानपूर्वक अपने घरमें ले गया ॥९॥

उस द्विजश्रेष्ठने उनके हाथ-पैर धुलाये और फिर आसनपर बिठाकर आदरपूर्वक कहा - 'भोजन कीजिये' ॥१०॥

ऋभु बोले-

हे विप्रवर ! आपके यहाँ क्या-क्या अन्न भोजन करना होगा - यह बताइये, क्योंकि कुत्सित अन्नमें मेरी रुचि नहीं है ॥११॥

निदाघने कहा -

हे द्विजश्रेष्ठ ! मेरे घरमें सत्तू, जौकी लप्सी, कन्द-मूल-फलादि तथा पूए बने हैं । आपको इनमेंसे जो कुछ रुचे वही भोजन कीजिये ॥१२॥

ऋभु बोले -

हे द्विज ! ये तो सभी कुत्सित अन्न है, मुझे तो तुम हलवा, खीर तथा मट्ठा और खाँड़से बने स्वादिष्ट भोजन कराओ ॥१३॥

तब निदाघने ( अपनी स्त्रीसे ) कहा - हे गृहदेवि ! हमारे घरमें जो अच्छि-से-अच्छि वस्तु हो उसीसे इनके लिये अति स्वादिष्ट भोजन बनाओ ॥१४॥

ब्राह्मण ( जडभरत ) ने कहा- उसके ऐस कहनेपर उसकी पत्नीने अपने पतिकी आज्ञासे उन विप्रवरके लिये अति स्वादिष्ट अन्न तैयार किया ॥१५॥

हे राजन ! ऋभुके यथेच्छ भोजन कर चुकनेपर चिदाघने अति विनीत होकर उन महमुनिसे कहा ॥१६॥

निदाघ बोले -

हे द्विज ! कहिये भोजन करके आपका चित्त स्वस्थे हुआ न ? आप पूर्णतया तृप्त और सन्तुष्ट हो गये न ? ॥१७॥

हे विप्रवर ! कहिये आप कहाँ रहनेवाले हैं ? कहाँ जानेकी तैयारीमें हैं ? और कहाँसे पधारे हैं ? ॥१८॥

ऋभु बोले -

हे ब्राह्मण ! जिसको क्षुधा लगती हैं उसीकी तृप्ती भी हुआ करती है । मुझको तो कभी क्षुधा ही नहीं लगी, फिर तृप्तिके विषयमें तुम क्या पूछते हो ? ॥१९॥

जठराग्निके द्वारा पार्थिव ( ठोस ) धातुओंके क्षीण हो जानेसे मनुष्यको क्षुधाकी प्रतीति होती है और जलके क्षीण होनेसे तृष्णाका अनुभव होता है ॥२०॥

हे द्विज ! ये क्षुधा और तुषा तो देहके ही धर्म हैं, मेरे नहीं; अतः कभी क्षुधिति न होनेके कारण मैं तो सर्वदा तृप्त ही हूँ ॥२१॥

स्वस्थता और तुष्टि भी मनहीमें होते हैं, अतः ये मनहीके धर्म हैं; पुरुष ( आत्मा ) से इनका कोई सम्बन्ध नहीं है । इसलिये हे द्विज ! ये जिसके धर्म हैं उसीसे इनके विषयमें पूछो ॥२२॥

और तुमने जो पूछा कि 'आप कहाँ रहनेवाले हैं? कहाँ जा रहे हैं ? तथा कहाँसे आये हैं' सो इन तीनोंके विषयमें मेरा मत सुनो - ॥२३॥

आत्मा सर्वगत है, क्योंकि यह आकाशके समान व्यापक है; अतः 'कहाँसे आये हो, कहाँ रहते हो और कहाँ जा ओगे ? 'यह कथन भी कैसे सार्थक हो सकता है ? ॥२४॥

मैं तो न कहीं जाता हूँ न आता हूँ और न किसी एक स्थानपर रहता हूँ ( तू, मैं और अन्य पुरुष भी देहादिके कारण जैसे पृथक् - पृथक् दिखायी देते हैं वास्तवमें वैसे नहीं हैं ) वस्तुतः तू तु नहीं हैं, अन्य अन्य नहीं है औअ मैं मैं नहीं हूँ ॥२५॥

वास्तवमें मधुर मधुर है भी नहीं; देखो, मैंने तुमसे जो मधुर अन्नकी याचना की थी उससे भी मैं यहीं देखना चाहता था कि ' तुम क्या कहते हो ।' हे द्विजश्रेष्ठ ! भोजन करनेवालेके लिये स्वादु और अस्वादु भी क्या है ? क्योंकी स्वादिष्ठ पदार्थ ही जब समयान्तरसे अस्वादु हो जाता हैं तो वही उद्वेगजनक होने लगता हैं ॥२६-२७॥

इसी प्रकार कभी अरुचिकर पदार्थ रुचिकर हो जाते हैं और रुचिकर पदर्थोसे मनुष्यको उद्वेग हो जाता है । ऐसा अन्न भला कौन - सा है जो आदि, मध्य और अन्त तीनों कालमें रुचिकर ही हो ? ॥२८॥

जिस प्रकार मिट्टिका घर मिट्टिसे लीपने - पोतनेसे दृढ़ होता है, उसी प्रकार यह पार्थिव देह पार्थिव अन्नके परमाणुओंसे पुष्ट हो जाता है ॥२९॥

जौ, गेहूँ, मूँग, घृत, तैल , दूध , दही गुड़ और फल आदि सभी पदार्थ पार्थिव परमाणु ही तो हैं । ( इनमेंसे किसको स्वादु कहें और किसको अस्वादु ? ) ॥३०॥

अतः ऐसा जानकर तुम्हें इस स्वादु अस्वादुका विचार करनेवाले चित्तको समदर्शी बनाना चाहिये क्योंकि मोक्षका एकमात्र उपाय समता ही है ॥३१॥

ब्राह्मण बोले - हे राजन् ! उनके ऐसे परमार्थमय वचन सुनकर महाभाग निदाघने उन्हें प्रणाम करके कहा - ॥३२॥

"प्रभो ! आप प्रसन्न होइये ! कृपया बतलाइये, मेरे कल्याणकी कामनासे आये हुए आप कौन हैं ? हे द्विज ! आपके इन वचनोंको सुनकर मेरा सम्पूर्ण मोह नष्ट हो गया है' ॥३३॥

ऋभु बोले - हे द्विज ! मैं तेरा गुरु ऋभु हूँ; तुझको सदसद्विवेकिनी बुद्धि प्रदान करनेके लिये मैं यहाँ आया था । अब मैं जाता हुँ; जो कुछ परमार्थ है वह मैंने तुझसे कहा ही दिया है ॥३४॥

इस परमार्ततत्त्वका विचार करते हुए तु इस सम्पूर्ण जगत्‌को एक वासुदेव परमात्माहीका स्वरूप जान; इसमें भेद-भाव बिलकूल नहीं है ॥३५॥

ब्राह्मण बोले - तदनन्तर निदाघने ' बहुत अच्छा' कह उन्हें प्रणाम किया और फिर उससे परम भक्तिपूर्वक पुजित हो ऋभु स्वेच्छनुसार चले गये ॥३६॥

इति श्रीविष्णुपुराणे द्वितीयेंऽशे पत्र्चद्शोऽध्यायः ॥१५॥

श्रीविष्णुपुराण

संकलित साहित्य
Chapters
अध्याय १
चौबीस तत्त्वोंके विचारके साथ जगत्‌के उप्तत्ति क्रमका वर्णन और विष्णुकी महिमा
ब्रह्मादिकी आयु और कालका स्वरूप
ब्रह्माजीकी उप्तत्ति वराहभगवानद्वारा पृथिवीका उद्धार और ब्रह्माजीकी लोक रचना
अविद्यादि विविध सर्गोका वर्णन
चातुर्वर्ण्य-व्यवस्था, पृथिवी-विभाग और अन्नादिकी उत्पात्तिका वर्णन
मरीचि आदि प्रजापतिगण, तामसिक सर्ग, स्वायम्भुवमनु और शतरूपा तथा उनकी सन्तानका वर्णन
रौद्र सृष्टि और भगवान् तथा लक्ष्मीजीकी सर्वव्यापकताका वर्णन
देवता और दैत्योंका समुद्र मन्थन
भृगु, अग्नि और अग्निष्वात्तादि पितरोंकी सन्तानका वर्णन
ध्रुवका वनगमन और मरीचि आदि ऋषियोंसे भेंट
ध्रुवकी तपस्यासे प्रसन्न हुए भगवान्‌का आविर्भाव और उसे ध्रुवपद-दान
राजा वेन और पृथुका चरित्र
प्राचीनबर्हिका जन्म और प्रचेताओंका भगवदाराधन
प्रचेताओंका मारिषा नामक कन्याके साथ विवाह, दक्ष प्रजापतिकी उत्पत्ति एवं दक्षकी आठ कन्याओंके वंशका वर्णन
नृसिंहावतारविषयक प्रश्न
हिरण्यकशिपूका दिग्विजय और प्रह्लाद-चरित
प्रह्लादको मारनेके लिये विष, शस्त्र और अग्नि आदिका प्रयोग
प्रह्लादकृत भगवत्-गुण वर्णन और प्रह्लादकी रक्षाके लिये भगवान्‌का सुदर्शनचक्रको भेजना
प्रह्लादकृत भगवत् - स्तृति और भगवान्‌का आविर्भाव
कश्यपजीकी अन्य स्त्रियोंके वंश एवं मरुद्गणकी उप्तत्तिका वर्णन
विष्णुभगवान्‌की विभूति और जगत्‌की व्यवस्थाका वर्णन
प्रियव्रतके वंशका वर्णन
भूगोलका विवरण
भारतादि नौ खण्डोंका विभाग
प्लक्ष तथा शाल्मल आदि द्वीपोंका विशेष वर्णन
सात पाताललोकोंका वर्णन
भिन्न - भिन्न नरकोंका तथा भगवन्नामके माहात्म्यका वर्णन
भूर्भुवः आदि सात ऊर्ध्वलोकोंका वृत्तान्त
सूर्य, नक्षत्र एवं राशियोंकी व्यवस्था तथा कालचक्र, लोकपाल और गंगाविर्भावका वर्णन
ज्योतिश्चक्र और शुशुमारचक्र
द्वादश सूर्योंके नाम एवं अधिकारियोंका वर्णन
सूर्यशक्ति एवं वैष्णवी शक्तिका वर्णन
नवग्रहोंका वर्णन तथा लोकान्तरसम्बन्धी व्याख्यानका उपसंहार
भरत-चरित्र
जडभरत और सौवीरनरेशका संवाद
ऋभुका निदाघको अद्वैतज्ञानोपदेश
ऋभुकी आज्ञासे निदाघका अपने घरको लौटना
वैवस्वतमनुके वंशका विवरण
इक्ष्वाकुके वंशका वर्णन तथा सौभरिचरित्र
मान्धाताकी सन्तति, त्रिशुंकका स्वर्गारोहण तथा सगरकी उप्तत्ति और विजय
सगर, सौदास, खट्‍वांग और भगवान् रामके चरित्रका वर्णन
निमि-चरित्र और निमिवंशका वर्णन
सोमवंशका वर्णनः चन्द्रमा, बुध और पुरुरवाका चरित्र
जह्नुका गंगापान तथा जगदग्नि और विश्वामित्रकी उत्पत्ति
काश्यवंशका वर्णन
महाराज रजि और उनके पुत्रोंका चरित्र
ययातिका चरित्र
यदुवंशका वर्णन और सहस्त्रार्जुनका चरित्र
यदुपुत्र क्रोष्टुका वंश
सत्वतकी सन्ततिका वर्णन और स्यमन्तकमणिकी कथा